ब्लॉग छत्तीसगढ़

इस ब्‍लॉग के अतिरिक्‍त आप संजीव तिवारी एवं तमंचा रायपुरी के समग्र पोस्‍ट झॉंपी पर पढ़ सकते हैं.

28 April, 2015

कला दीर्घा : हर ‘निगेटिव’ को ‘पॉजिटिव’ बनाते हुए अनिल कामड़े

-विनोद साव

भिलाई आर्ट्स क्लब ने इस शहर को चित्रों और रंगों से भर दिया है. पिछले महीने भिलाई में चित्रकला पर तीन दिनों का सार्थक आयोजन किया गया था और इस बार अनिल कामड़े के छायाचित्रों की प्रदर्शनी लगवा दी. नेहरू आर्ट गैलरी के सामने ही अनिल मिल गए. अपने चिर-परिचित हंसमुख चेहरे के साथ. जन संपर्क विभाग के फोटो विडियो सेक्शन में एक समय तीन कलाकार ऐसे सहभागी थे जो दुर्ग से एक साथ आते और जाते रहे – हिमांशु मिश्रा, प्रमोद यादव और अनिल कामड़े. ये तीनों दुर्ग में गया नगर के आसपास लगभग एक ही इलाके में रहे. इन तीनों कलाकारों में जबर्दस्त यारी थी और इनके कारण जन संपर्क विभाग में याराना माहौल बना रहता था. इनमें विलक्षण विडियोग्राफर हिमांशु मिश्रा हबीब तनवीर के ‘सेट’ पर कार्य करते हुए दुर्घटनाग्रस्त होकर असमय ही यारों के बीच से चले गए. हिमांशु के पास किसी फिल्म के छायाकार जैसी समृद्ध दृष्टि और तकनीक थी. उनकी बनाई विडियो फिल्मों ने छत्तीसगढ और इसके बाहर भी अपनी छाप छोड़ी थी.

साहित्य में कदम रखने से पहले मैंने भी कुछ विडियो फीचर फिल्मों के निर्माण में दांव पेंच आजमाए थे. हिमांशु के साथ मिलकर ‘पाटन दर्शन’ और ‘भारत-सोवियत मैत्री’ बनाई थी जिनका कई जगह प्रदर्शन हुआ था. हिमांशु के सहयोगी साथी अनिल वशिष्ठ और हसन उनकी कलात्मक बारीकियों के हरदम साक्षी रहे हैं. इनके साथी कुशल फोटोग्राफर प्रमोद यादव पिछले वर्ष सेवानिवृत हो गए. प्रमोद यादव के कैमरे के पीछे एक साहित्यकार की नज़र भी होती है क्योंकि वे एक प्रकाशित होने वाले लेखक भी हैं. इस महीने अनिल कामड़े ने भी अवकाश ग्रहण कर लिया है लेकिन केवल नौकरी से अवकाश ग्रहण किया है कला से नहीं. नौकरी से निवृत होना कलाकारों के लिए ‘प्लस’ होता है. रिटायरमेंट के बाद कलाकारों की कला की एक अलग दुनियां होती है, जो उनकी अपनी नितांत निजी दुनियां होती है. वे मुक्त होकर फिर से अपनी कला में लीन होने का पूरा अवसर पा लेते हैं.

अनिल कामड़े अपनी मुचमुची मुस्कान के साथ कहते हैं कि ‘विनोद भाई १९५५ में जन्मे जो कला प्रेमी हुए उनमें मैं, आप और हिमांशु थे. यह सुनकर प्रदर्शनी का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि रंजना मुले, महाप्रबंधक (सी.एस.आर.) किलकते हुए कह उठती हैं कि ‘हम भी १९५५ के हैं.’

गोलाकार गैलरी में लगे हैं अनिल कामड़े के खींचे हुए रंगीन और श्वेतश्याम चित्र. ये बस्तर के आदिवासी जीवन पर केंद्रित चित्र हैं. इनमें बस्तर के नैसर्गिक दृश्यों की उपस्थिति भी उनके जन-जीवन से है. मनुष्य की जिजीविषा के बिना प्रकृति का भी मोल कितना है ? प्रकृति की छटा तो तभी निखरती और बिखरती है जब उस वन प्रांतर की जन भागीदारी प्रकृति के श्रोतों पर होती है. नदी पहाड़ और सूरज चाँद के साथ मनुष्यों का समुदाय हो तब जाकर कला का प्रयोजन सिद्ध होता है.. और अनिल इसे खूब सिद्ध करते हैं अपनी छायांकन कला से. अनिल के भीतर एक यायावर है. वे घूमते रहते हैं हाथ और कंधे पर अपना कैमरा लिए. जहाँ भी कुछ असाधारण दिखा कि उसे कैमरे में कैद किया. अनिल उन फटाफट फोटोग्राफरों में नहीं हैं जो फोटो खींचे और चलते बने. वे बड़े धैर्य के साथ अपने ‘ऑब्जेक्ट’ को ‘फोकस’ करते हैं. कैमरे में उनकी तन्मयता उस निशानेबाज की तरह दिखाई देती है जिसे निशाना लगाना है तो सीधे अपने लक्ष्य पर अन्यथा नहीं. प्रदर्शनी में लगे चित्रों में यह साफ दिख रहा है कि चित्रकार ने बस्तरिहा जीवन के सूक्ष्म लोक तत्वों को बड़ी सूक्ष्मता से उतार लिया है. यह उनके चित्रों को देखकर ही महसूसा जा सकता है, कुछ इस तरह कि बस्तर के लोक जीवन की मधुर लय भी देखने वाले के कानों में झंकृत हो उठती है.

अनिल कामड़े को वर्ष 2000 में भिलाई में हुई अखिल भारती फोटोग्राफी प्रतियोगिता में पहला पुरस्कार मिला था. उनके चित्र धर्मयुग और सारिका जैसी पत्रिकाओं सहित अनेक अख़बारों में प्रमुखता से छपते रहे हैं. प्रगतिशील लेखक संघ के भोपाल और लखनऊ सम्मेलनों में उनके चित्रों की प्रदर्शनी लगी थी. वे कहते हैं कि ‘इंसान के रोजमर्रा की खटखट, जिंदगी में उसकी उठा पटक और उसकी जद्दोजहद के बीच जो सौंदर्य झांकता है कुछ ऐसे ही पलों को मैं कैमरे में ले लेता हूँ.’ अपने छायांकन में वे जीवन की नकारात्मकता को सकरात्मक आयाम देते हैं. हर ‘निगेटिव’ को ‘पॉजिटिव’ बना लेने की कला है अनिल कामड़े में.


20 सितंबर 1955 को दुर्ग में जन्मे विनोद साव समाजशास्त्र विषय में एम.ए.हैं। वे भिलाई इस्पात संयंत्र में प्रबंधक हैं। मूलत: व्यंग्य लिखने वाले विनोद साव अब उपन्यास, कहानियां और यात्रा वृतांत लिखकर भी चर्चा में हैं। उनकी रचनाएं हंस, पहल, ज्ञानोदय, अक्षरपर्व, वागर्थ और समकालीन भारतीय साहित्य में भी छप रही हैं। उनके दो उपन्यास, चार व्यंग्य संग्रह और संस्मरणों के संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। कहानी संग्रह प्रकाशनाधीन है। उन्हें कई पुरस्कार मिल चुके हैं। वे उपन्यास के लिए डॉ. नामवरसिंह और व्यंग्य के लिए श्रीलाल शुक्ल से भी पुरस्कृत हुए हैं। आरंभ में विनोद जी के आलेखों की सूची यहॉं है।
संपर्क मो. 9407984014, निवास - मुक्तनगर, दुर्ग छत्तीसगढ़ 491001
ई मेल -vinod.sao1955@gmail.com


21 April, 2015

सरला शर्मा की कहानी : सफेद होता लहू

समय के साथ साथ रिश्‍तों की संवेदनशीलता बदल रही है, संबंधों के बीच नि:स्‍वार्थ प्रेम और भारतीय परिवार की परम्‍परा का मजबूत किला धीरे धीरे ढहने लगा है। देश में बुजुर्ग मॉं-बाप के प्रति बेटा-बहुओं का व्‍यवहार और बृद्धाश्रम में दिन काटते तिरस्‍कृत जीवों की कहानी आप रोज पढ़ते होंगें। अमरीका जैसे गुलाबी स्‍वप्‍नों के देश में संपूर्ण सुख का भोग कर रहे बेटा-बहुओं के द्वारा अपनी ही मॉं को किस तरह भावनात्‍मक प्रतारणा दिया जा रहा है, इसकी झलक आप इस कहानी में देख सकते हैं।
सरला शर्मा, छत्‍तीसगढ़ की प्रखर लेखिका हैं, इनके पिता स्‍व.श्री शेषनाथ शर्मा 'शील' जी छत्‍तीसगढ़ के वरिष्‍ठ साहित्‍यकार के रूप में प्रतिष्ठित हैं। इन्‍होंनें हिन्‍दी, बंगला एवं छत्‍तीसगढ़ी में लेखन किया है एवं उम्र के इस पड़ाव में भी निरंतर सृजनशील हैं। अंर्तजाल जगत में इनका एक ब्‍लॉग भी है एवं वे फेसबुक व ब्‍हाट्स एप के माध्‍यम से अपनी वैचारिक दखल प्रस्‍तुत कर रही हैं। सरला दीदी नें यह कहानी मुझे बहुत पहले भेजी थी, किन्‍तु समयाभाव के कारण मैं इसे डिजिटलाईज नहीं कर पाया था, अतिथि लेखक के रूप में प्रस्‍तुत हैं उनकी एक कहानी-

सुबह - सुबह फोन की घण्टी फूटी आंख नहीं सुहाती। अरे नहीं, फूटे कान नहीं सुहाती.. पर क्या करू? जानती हॅू कि स्थानीय फोन कॉल हैं.. चलों जिसे जरूरी काम होगा, वह फिर कॉल करेगा ही.. ओह! तीसरी बार फाने ने चीखना शुरू किया, तो बेमन से थोड़ी झुंझुलाकर ही ’हलो’ बोली। अरे बाप रे ..... कान के परदे फट गये ’हलो सरला! फोन क्यो नहीं उठाती।’ आवाज पहचान गई अपूर्वा जैन मेडम थीं आश्चर्य हुआ वो तो अगले महीने आने वाली थी।...
’’हलों जैन मेडम! आप कहां से बोल रही हैं, आप तो यू.एस. गई थी बेटे के पास ...। मेरा कथन समाप्त होने के पहले ही असहिष्णु झुंझलाई हुई आवाज आई ’’हॉ जी अटलाण्टा गई थी, जार्जिया राज्य की राजधानी, व्यापार और पाश्चात्य संस्कृति का केन्द्र, खुबसूरत किन्तु व्यस्त, त्रस्त एक ऐसा शहर जहॉं आदमी को खुद के लिये भी समय निकाल पाना कठिन है... और कुछ..?
मुझे समझ में नहीं आ रहा था, क्या कहॅू सो पूछ लिया ’’अभी कहां से बोल रहीं हैं..?
तीखी आवाज में उत्तर आया ’हार्टस फील्ड जेक्सन अटलाण्टा इन्टरनेशनल एयरपोर्ट दुबई... वहॉ से दिल्ली एयरपोर्ट। अभी रायपुर एयरपोर्ट से बोल रही हॅूं... सीधे तुम्हारे पास आ रहीं हॅू... आज छुट्टी ले लो... बहुत कुछ कहना है तुमसे ... हो सकता है बाद में इतना सब साफ साफ न बता पाऊॅ...।
यह क्या बात हुई? अरे भाई! बेटे के पास से आ रही है... वो तो ठीक है... धनी देश के धनी-मानी नागरिक बन गये बेटे बहू ने सुख सुविधा का इंतजाम जुटाने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रखा होगा... अपना सुखद अनुभव, वह भी विदेश यात्रा का वर्णन सुनाये बिना रहा नही जा रहा है... वहॉ तक तो ठीक है, पर इस तरह... आनन फानन... विवरण देने की क्या जरूरत है? अब अपना काम धाम छोड़कर जैन मेडम की अगवानी में लगूं... बड़ी... असमंजस मे पड़ गई। किन्तु, कौतूहल, मित्रता, स्त्रियोचित ईर्ष्या सबने मिलकर प्रिंसिपल से छुट्टी तो दिलवा दी...।
करीब दो घण्टे बाद जो महिला खड़ी थी, उसे जैन मेडम कहने में डर लगा। निस्तेज ऑखे, मुरझाया चेहरा, शिथिल पड़ गई मांस पेशियॉ... पीली पड़ गई थीं वो। इन दो महिनों में ही उनकी उम्र दस साल बढ़ गई क्या? सोचनें लगी पुत्रगर्व से गर्विता माता की यह कैसी दशा है? शिष्टाचार वश कुछ बोली नहीं... भीतर आते ही वे सोफे पर धंस गई... पानी का गिलास एक ही सांस में खाली हो गया... सहसा मेरा हाथ पकड़कर रोने लगी... मेरा हाथ उनकी पीठ पर पहुंचा ही था कि भरे गले से बोली... ’सरला! अपने घर में थोड़ी सी जगह दोगी? मरते तक मेरी देखभाल कर सकोगी?’
यह कैसा प्रश्न है? जिसने जाति-धर्म, भाषा बोली, सगे-संबंधी की सीमा पार करके मनुष्यता को जगा दिया? जैन मेडम मुझसे दस - बारह साल बड़ी होंगी, दुनिया देखी, मजबूत इरादों वाली महिला है फिर इतनी अधीरता, इतनी दीनता क्यों? उन्हे शांत करने को बोली, ’’ हॉ...हॉ... मेडम आपका ही घर है, चलिये थक गई होंगी, आखीर बीस, इक्कीस घण्टे की हवाई यात्रा कम तो नहीं होती...चलिये... नहा धोकर, कुछ खा पी लीजिये, फिर आराम से बैठकर बातें करेंगे... आज की छुट्टी ले ली हूॅ...।’
यथासमय बातें शुरू हुई। इस बार मेरी उत्सुकता बढ़ चली थी तो बोली... ’हॉ मेडम। आप दीवान पर लेटे हुये ही अपनी सुनाइये मैं भी सोफे पर आराम से बैठ जाती हॅू। थोड़ी देर मुझे एकटक निहारने के बाद बोली ’कब से कैसे शुरू करू सरला... पिछले दिनों की मानसिक यंत्रणा, ऊहापोह और अनिश्चित भविष्य की आशंका... किस किस का जिक्र करूॅ...? तुम तो जानती हो कि अनुज मेरा बेटा अटलाण्टा की साफ्टवेयर कम्पनी में इंजीनियर है, दो बेटे है उसके...। बच्चों के स्कूल चले जाने पर बहू अकेली पड़ी रहती थी, तो उसने भी किसी गारमेन्ट कम्पनी में सुपर वाइजर की नौकरी कर ली... पैसों की कमीं नहीं रहीं... तो काफी बड़ा घर खरीद लिया...। पर वहॉ नौकर - चाकर तो मिलते नहीं... घर का रख - रखाव, खाना बनाना, घरेलू काम, बच्चों को पढ़ाना फिर नौकरी... आसान तो होता नहीं... बहू चिड़चिड़ाने लगी... थक जाती थी... ऐसे में मेरी याद आई... अकेली पड़ी रहती हॅू तो अब उनके साथ रहूॅ... यहॉ तक तो ठीक था... मैं अनुज को ना नहीं कह सकी आखिर अपनों का साथ इस उम्र में प्रलोभन देता ही है... चली गई...’।
मैंने पूछा ’अकेली कैसे चली गई... इतनी दूर...।’ उन्होने कहा इसके पहले भी जा चुकी थी, तब मि. जैन साथ थे। तब हम दोनों तीन महीने वहॉ रूके थे, तो इस बार अकेली चली गई। वह तो बाद में समझ आया कि यह जाना कुछ और था... बहू ने धीरे से घर का सारा काम समझा दिया... मैं भी व्यस्त हो गई... हॉ बच्चों से बातचीत में भाषा आड़े आती थी...। बेटा भारतीय खाने की फरमाइश करता... मैं खुशी-खुशी बनाती खिलाती...।’
’आप थक नहीं जाती थी, फिर वहॉ के बदलते मौसम में आपकी तबीयत...।’ वाक्य पूरा नहीं कर पाई वे बोल उठी...। ’हॉ ... यही से तो मुश्किल की शुरूआत हुई। आये दिन होने वाली बारिश, बादलों से ढका आसमान, सारे दिन की मेहनत... मेरी तबियत खराब होने लगी... कभी सिर चकराने लगता, तो हाथ पैर का दर्द अलग से... कभी कभी सांस फूलने लगती...।’ जैन मेडम ने बताया।
मैं सोचने लगी उम्र के इस पड़ाव पर शरीर आराम चाहता है बोली ’जैन मेडम ! आपने बेटे बहू से कहॉ क्यो नहीं... वहॉ तो अच्छे डाक्टर अच्छी दवाए मिल जाती है।’
धीमे से मुस्कुरा कर जैन मेडम ने कहॉ ’मॉ हूॅ ना... बेटे बहू की व्यस्तता, दिन भर थके हारे, घर लौटे बच्चों से अपना दुखड़ा रोकर उन्हे तकलीफ क्यां दूॅ यही सोचती थी...।
इसी बीच एक दिन बहू को एक नया विचार आया बोली ’मम्मी! आप तो बोर होती होंगी, ऐसा कीजिये कि कम्प्यूटर पर स्काइप पर जाकर हिन्दी पढ़ाने का काम शुरू कर दीजिये। एक घण्टे के लेक्चर का 300 डालर मिलेगा... काम भी होगा कुछ आमदनी भी हो जायेगी...।’
मेरे ना नुकुर करने पर बेटे ने सुझाव दिया - डरिये मत, गूगल में जाकर सर्च करेंगी तो भूले भटके प्रसंग याद आ जायेंगे, कोई कठिन नहीं है...।
’’जैन मेडम आपने बेटे से पूछा नहीं कि घर बैठे... बिना विद्यार्थियों के पढ़ाने का काम कैसे होगा।’’ मैने कहा तो - उन्होने बताया कि वहॉ पर इसे लांग डिस्टेन्स लेक्चर कहते है...।
आखिर... जैन मेडम ने वहॉ - बेटे बहू की खुशी के लिये यह भी शुरू कर दिया... कुछ ही दिनों में उन्हें लेक्चर देना अच्छा लगने लगा पर कम्प्यूटर पर लगे रहने से घर का काम करने को समय नहीं बचता था और वह थक भी जाती थी। बहू का मुॅह फूलने लगा। सबसे बड़ी शिकायत यह थी कि वहॉ जैन मेडम का मेडिकल इंश्योरेंस तो था नहीं, वहॉ तो डॉक्टरों की फीस बहुत ज्यादा है फिर महंगी दवाइयों का खर्च अलग से... दुनियादार बहू को यह खर्च गवारा नहीं था। देर रात गये... पानी पीने उठी जैन मेडम ने सुना बहू कह रही थाी। ’डायमण्ड मंगलसूत्र तो वह लाई नहीं, जो कपड़े लाई हैं वह भी ढंग के नहीं हैै, वहॉ अकेली रहती है, कोई खर्च तो है नहीं, पैंसों का करती क्या है, सोची थी यहीं रख लेगे, थोडी मदद हमारी भी हो जायेगी वह भी नहीं हो पा रहा है। इनकी दवाओं का खर्च अलग से... न हो इन्हे वहीं भेज दो...।’
बहू के विचारों ने जैन मेडम के कानों मे ताले लगा दिये। बेटे ने क्या कहा - सुन लेती तो... रही सही कसर पूरी हो जाती। पर मेरा सोचना सही नहीं था... चार दिनों बाद बेटे का तीखा स्वर सुनाई दे ही गया ’रूचि! भूलो मत की मैं मम्मी का इकलौता बेटा हूॅ मुझे ही उन्हे देखना है फिर अभी तो उन्ही के कमाये डालर हमारे एकाउंट में जमा है, भूलो मत की मम्मी ही तुमको पसंद करके लाई थी, वह भी बिना दान दहेज के...।’
अनुज आगे कुछ और कहता कि झमक कर रूचि ने कहा ’’कौन सा उपकार किया था, वे अच्छी तरह जानती थी कि पढ़ी लिखी हॅू विदेश में भी चार पैसा कमा सकूंगी और उनके बेटे का घर भी संभाल सकूंगी...।’’ ठीक है निभाइये अपनी जिम्मेदारी... वहॉ भी तो वृद्वाश्रम खुल गये है... वहीं रखिये... पैसे आप दीजिये... मैं मना नहीं करती... कम से कम हम तो यहॉ चैन से रह सकेंगें।’’
अवाक रह गई मै... तभी जैन मेडम की सिसकियां कान में पड़ी। मेरे पास तो सांत्वना के शब्द भी नहीं थे... क्या कहती? चुपचाप उनके हाथ को थपकती रही... कभी कभी स्पर्श भी भाषा बन जाती है... मौन मुखर हो जाता है...। धीरे धीरे मेडम शांत होने लगी...।
आखें पोंछकर बोली... ’’सरला! अकेली विधवा मॉ इस उम्र में घर में गर्ल्स हॉस्टल चला कर कैसे जीवन काट रही है, इसकी चिन्ता नहीं है, बेटे बहू हो तकलीफ ना हो इसलिये कभी उनसे कुछ मांगा नहीं... लहू का रंग सफेद कैसे हो गया... कब हो गया?’’ सात समुंदर पार की दूरी मॉ बेटे के बीच की दूरी कब बन गई? संबंधों की उष्मा ठण्डे प्रदेश में पहुंच कर ठण्डी हो जाती है क्या? जन्मभूमि से दूरी जननी जनक से भी दूरी पैदा कर देती है, यह तो नहीं सुना था। मैं सोचने लगी जैन मेडम के हृदय में जमी, दुख की शिला बोलने पर ही पिघलेगी... तो सुनती रही...।
वे फिर बोलने लगीं ’इस तरह तो वे हजारों बूढे़ मां बाप जो अपने बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिये उन्हे विदेश भेजकर खुश हाते है, गर्व से सिर ऊॅचा कर चलते है, अपने बुढ़ापे के प्रति निश्चिंत होते है, उन सबका गर्व, आशा, भरोसा सब बिखर जायेगा। आसन्न मृत्यु की पदचाप सुनते ये वृ़द्ध दम्पति अपने ही बच्चों की अर्थ लोलुपता की हुंकार सुनते, मृत्यु की कामना करते शेष जीवन बितायेंगे। चिन्ता इस बात की भी रहेगी कि जो पहले जायेगा वह चिता में जलने से पहले चिता में जलेगा कि जो पीछे छूट रहा है, वह किसके सहारे जियेगा? पीछे छूटने वाला साथी आगामी अकेलेपन से डरा सहमा, बिछुड़े साथी का शोक भी ठीक से मना नहीं पायेगा, आंसू बहे इसके पहले ही भविष्य की चिन्ता ऑखों को मरूस्थल बना देगी। रिश्तों की भावनाओं की, पारिवारिक जिम्मेदारियों की कैसी भयावह सच्चाई सामने आ रही है?
मैं सोचने लगी इस स्थिति में वृद्धाश्रमों की स्थापना कितना जरूरी हो गया है? समाज सेवी संस्थायें, हमारा प्रशासन इस समस्या को कब, कैसे सुलझायेगी। लंबी सांस खींचकर जैन मेडम ने कहा, ’’सरला! आज प्रतिभावान युवा वर्ग का पलायन तो हो रहा है, आस-पड़ोस, दूर ही दराज के क्षेत्रों में भी युवा वर्ग बेरोजगारी की मार से बचने विदेशों की ओर पलायन कर रहा है। इसके लिये किसे दोष दें... आर्थिक उदारीकरण, बाजारवाद, उपभोक्तावादी संस्कृति, कौन जिम्मेदार है...?
मैने कहा ’नहीं, जैन मेडम! सिर्फ भारतीय परिवार नहीं सारा संसार इस दर्द से अछूता नहीं बचेगा, संवेदनाहीन समाज में भावनाहीन किन्तु, हाड़ मांस के चलते फिरते रोबोट ही रह जायेंगे..। मानवीय मूल्यों का विनाश समस्त मानवजाति को अंधेरों की ओर खींच जे जायेगा... दुख इस बात का है।’
जैन मेडम ने कहा ’तुम ठीक कहती हो दर्द का यह सैलाब नाते रिश्ते परिवार सबको बहा ले जायेगा... तब क्या होगा?’
जैन मेडम को आराम करने को कहा, उनकी ऑखे मुंदने लगी... पर मेरी ऑखे खुली थी, सोचने लगी... नहीं... मेरे मन में असंख्य प्रश्न नागफनी की तरह उग आये थे, जिनकी चुभन मेरी चेतना को लहूलुहान कर रही थी। युवा वर्ग का इस तरह परदेशी होना... परिवार, समाज और देश के लिये कितना भयावह है, असंख्य असहाय जर्जर वृद्ध स्त्री पुरूषों वाला भारत तब किस दिशा में कैसे और कितनी प्रगति कर सकेगा...? मानती हॅू, लहू का रंग सफेद होने लगा है।
-सरला शर्मा, दुर्ग

Popular Posts