ब्लॉग छत्तीसगढ़

03 August, 2007

प्रेम मुक्ति है

मैं यानि अहंकार ! अहंकार और प्रेम में क्या संबंध हो सकता है । प्रेम तो अहंकार का विसर्जन है. जब भी किसी के प्रति प्रेम उगमता है, तो उसके प्रति हम अपना अहंकार छोड़ देते हैं, हम उसके प्रति अपने को समर्पित कर देते हैं. फिर वह प्रेम साधारण जगत का हो या भगवान के प्रति हो. मौलिक प्रक्रिया तो एक ही है. जिस स्त्री को तुमने प्रेम किया, या जिस पुरुष को तुमने प्रेम किया, उस प्रेम में तुम्हें परित्याग क्या करना पड़ता है ? प्रेम मांगता क्या है ? प्रेम एक ही चीज मांगता है कि मैं को समर्पित करो !और जब भी कोई पुरुष या स्त्री एक दूसरे के प्रति अपने को समर्पित कर देते हैं, तो उनके जीवन में बड़ी हरियाली के फूल खिलते हैं, बड़ी सुवास उठती है, मगर यह बहुत मुश्किल से होता है. क्योंकि आखिर पुरुष, पुरुष है और स्त्री, स्त्री है ! दोनों के लिए अपने मैं को, अपने अहंकार को छोड़कर स्वयं को समर्पित करना कठिन कार्य है. और कभी यह समर्पण जीवंत हो भी जाए तो वह क्षणभंगुर ही होता है, उस क्षण में थोड़ी सी झलक मिलती है- रस की, मन थोड़ा सा मुग्ध हो जाता है, थोड़े प्राण आनंदित भी हो जाते हैं- मगर कुछ क्षणों के लिए, और फिर वही अंधेरी रात ।




इसलिए प्रेम में थोड़ा सुख भी और बहुत ज्यादा दुख है. जिन्होंने प्रेम को जाना उन्होंने सुख जाना ही नहीं, उन्होंने प्रेम में सुख से भी ज्यादा गहन दु:ख जाना ! इसीलिए तो बहुत से लोग प्रेम में पड़ते ही नहीं । छोटे सुख से तो वे वंचित रह रहते हैं । मगर बड़े गहन दु:ख से भी बच जाते हैं । इसीलिए तो कई लोग सदियों-सदियों तक जंगल में भाग गये हैं. संसार का क्या अर्थ होता है ? जहाँ प्रेम होने की संभावना हो . जहाँ प्रेम का अवसर हो. जहाँ दूसरा मौजूद हो । जहाँ न जाने कब किसी से मन मिल जाये. और न जाने कब किसी से राग जुड़ जाये ।




भाग जाओ ! सदियों-सदियों से साधु संत जंगलों में भागते रहे हैं, पहाड़ों में भागते रहे हैं. किससे भाग रहे हैं. वे कहते हैं संसार से भाग रहे हैं. मगर ऐसा होता नहीं. उनके मनोविज्ञान को समझो. वे संसार से नहीं प्रेम से भाग रहे होते हैं. संसार प्रेम का ही दूसरा नाम हैं. लेकिन भागे हुए ये लोग बहुत अधिक अहंकारी होते हैं. इसीलिए तुम साधु-संतों में जितना अहंकार देखोगे, वैसा अहंकार और कहीं नहीं दिखेगा. क्योंकि प्रेम जो मिटा सकता था उनके अहंकार को, उस प्रेम को तो वे छोड़कर चले गये, अब तो बीमारी ही रही, औषधी रही नहीं. मैं ऐसे सन्यास का समर्थक हूँ, जो प्रेम से भागता नहीं, वरन् प्रेम के सत्य में जागता है. ऐसा सन्यास जो प्रेम को शाश्वत सच्चाई की तरह स्वीकार करता है. जो संसार से, प्रेम से नहीं बल्कि अहंकार से भागता है, अहंकार को त्यागता है क्योंकि दु:ख प्रेम से नहीं आता,प्रेम से ही सुख आता है भले ही क्षणभंगुर ही सही, मगर प्रेम चला जाता है तो फिर अहंकार सिर उठाता है. इसीलिए मेरा सन्यास भिन्न है, जो तोड़ता नहीं बल्कि सबसे जोड़ता है..........

(आचार्य रजनीश के विचार)

6 comments:

  1. ओशो के अनेकों प्रवचनों का संग्रह मेरे पास है. उनको सुनना और पढ़ना हमेशा आनन्दित करता है. आभार इस प्रस्तुति के लिये.

    ReplyDelete
  2. सही है। इसीलिये कहा है- प्रेम गली अति सांकरी, जामे दुई न समाय!

    ReplyDelete
  3. इ लो। सबसे पहले हम ही टिपियाए रहे और हम ही गायब हो गए इहां से, हम इ कहे रहे कि नही)))))))))) इ पोस्ट को हम अनदेखा कर रहे हैं उ का है ना कि अभी सन्यास वाली उमर अभी हमार नही हुई है !!

    बाकी आभार तो कहना ही है भैया!!

    ReplyDelete
  4. ओशो के विचार यहाह देने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. पलायनवादी बनने से कुछ नहीं होता । प्रेम वो अनुभूति है जिसमें अहम नहीं
    समर्पण की भावना प्रमुख है चाहे वो किसीसे भी किया जाये । सोने पर सुहागा
    तब-जब प्रत्तयुतर की कामना ना हो ।

    ReplyDelete
  6. प्रेम ही परमात्मा है…।
    ओशो का अपना व्यक्तित्व था कुछ पहलुओं को छोड़ उनका पक्ष हमेशा दर्शन से जुड़ा होता था…।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts