ब्लॉग छत्तीसगढ़

24 September, 2007

24 सितम्‍बर विश्‍व हृदय दिवस : क्‍या धडकता है आपका भी दिल





भारत में भी अब कम उम्र के लोग बडी तेजी से हृदयाघात से शिकार हो रहे हैं । भारी तादात में एंजियोग्राफी और बाईपास सर्जरी की जा रही है । बस थोडी सी सतर्कता से रख सकते हैं आप अपने दिल को चुस्‍त दुरूस्‍त ।

दिल का सबसे बडा दुश्‍मन है, स्‍ट्रेस । स्ट्रेस से बचना आसान नहीं है । स्‍ट्रैस के कारण मस्तिष्‍क से जो जैव रसायन स्‍त्रावित होते हैं, वे हृदय की पूरी प्रणाली को खराब कर देते हैं । स्‍ट्रैस से उबरने में भारतीय पारंपरिक योग चिकित्‍सा सौ प्रतिशत कारगर है ।

स्‍ट्रैस से उबरने में 'भ्रामरी प्राणायाम' एक चमत्‍कार की तरह कार्य करता है । हृदय को स्‍वस्‍थ रखने में ध्‍यान, धारणा प्रार्थना, सत्‍संग, मुद्रा आदि का भारी योगदान है । यह वैज्ञानिक शोधों से साबित हो चुका है कि आध्‍यात्मिक जीवन प्रणाली हृदय को स्‍वस्‍थ रखने की सबसे ठोस गारंटी है । बाईपास एवं एंजियोप्‍लास्‍टी आपको केवल लक्षणो से निजात दिलाती है । यह पुन: हार्ट अटैक नहीं होने की गारंटी नहीं है ।

तो हो जाएं तैयार आज विश्‍व हृदय दिवस है आज से भ्रामरी को अपने नित्‍यकृयाकलाप में कर लेवें शामिल ।




10 comments:

  1. अच्छी जानकारी दी. भ्रामरी प्रणायाम शुरु किया जायेगा यथाशीघ्र.

    ReplyDelete
  2. समीर जी से सहमत। अब एक पोस्ट भ्रामरी प्राणायाम पर आनी चाहिये।

    ReplyDelete
  3. जानकारी देने का शुक्रिया और हाँ इंतज़ार रहेगा भ्रामरी प्राणायाम वाली पोस्ट का।

    ReplyDelete
  4. achchi jankari deti hui post.aabhar.

    ReplyDelete
  5. संजीव जी इस खूबसूरत पोस्ट की चर्चा कर डाली गई है।

    ReplyDelete
  6. आज आपका दिल धड़क रहा है नई पुरानी हलचल में यकीन नही तो खुद ही देखिये...  चर्चा में आज नई पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्छी और उपयोगी जानकारी दी आपने।

    सादर

    ReplyDelete
  8. “सैर और व्यायाम हो, प्रतिदिन पुष्ट ह्रदय
    तन मन आनंदित रहे, रहता स्वस्थ समय”

    सुन्दर आलेख... ह्रदय दिवस पर सबके स्वास्थ्य की कामना....
    सादर...

    ReplyDelete
  9. ह्दय का क्या करें जी....इमोश्नल अत्याचार तो बहुत हो चुका इस पर ....अब सोच रहे हैं कि बाकी अत्याचार बंद कर दें।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

24 September, 2007

24 सितम्‍बर विश्‍व हृदय दिवस : क्‍या धडकता है आपका भी दिल





भारत में भी अब कम उम्र के लोग बडी तेजी से हृदयाघात से शिकार हो रहे हैं । भारी तादात में एंजियोग्राफी और बाईपास सर्जरी की जा रही है । बस थोडी सी सतर्कता से रख सकते हैं आप अपने दिल को चुस्‍त दुरूस्‍त ।

दिल का सबसे बडा दुश्‍मन है, स्‍ट्रेस । स्ट्रेस से बचना आसान नहीं है । स्‍ट्रैस के कारण मस्तिष्‍क से जो जैव रसायन स्‍त्रावित होते हैं, वे हृदय की पूरी प्रणाली को खराब कर देते हैं । स्‍ट्रैस से उबरने में भारतीय पारंपरिक योग चिकित्‍सा सौ प्रतिशत कारगर है ।

स्‍ट्रैस से उबरने में 'भ्रामरी प्राणायाम' एक चमत्‍कार की तरह कार्य करता है । हृदय को स्‍वस्‍थ रखने में ध्‍यान, धारणा प्रार्थना, सत्‍संग, मुद्रा आदि का भारी योगदान है । यह वैज्ञानिक शोधों से साबित हो चुका है कि आध्‍यात्मिक जीवन प्रणाली हृदय को स्‍वस्‍थ रखने की सबसे ठोस गारंटी है । बाईपास एवं एंजियोप्‍लास्‍टी आपको केवल लक्षणो से निजात दिलाती है । यह पुन: हार्ट अटैक नहीं होने की गारंटी नहीं है ।

तो हो जाएं तैयार आज विश्‍व हृदय दिवस है आज से भ्रामरी को अपने नित्‍यकृयाकलाप में कर लेवें शामिल ।




Disqus Comments