ब्लॉग छत्तीसगढ़

28 September, 2007

सुब्रत बसु : रंगकर्म के एक अध्‍याय का अंत

छत्‍तीसगढ अंचल के प्रख्‍यात रंगकर्मी एवं कई सिरियलों के निर्माता व निर्देशक, हिन्‍दी फिल्‍मों के शीर्ष निर्देशक अनुराग बसु के पिता सुब्रत बसु का निधन छत्‍तीसगढ सहित पूरे देश के लिए दुख का समाचार है ।



रायपुर फाफाडीह व रायपुर से भिलाई स्‍पात संयंत्र की सेवा स्‍वैच्छिक अवकाश लेकर 1987 से निरंतर मुम्‍बई में निवास करते हुए सुब्रत दादा नें देश में एक से बढकर एक नाटकों का मंचन किया है । उनके स्‍वयं के रंगमंचीय ग्रुप ‘अभियान’ के द्वारा कई महत्‍वपूर्ण नाटकों का मंचन किया गया है । छत्‍तीसगढ के भिलाई स्‍पात संयंत्र की कहानी पर आधारित स्‍टील बैले में सुब्रत दा का काम यादगार रहा है । भिलाई की जनता को इसके 40 से भी अधिक शो देखने का सौभाग्‍य प्राप्‍त हुआ है वहीं इस बैले का मंचन देश के अलग अलग शहरों में सफलता पूर्वक किया गया है जहां इसे बेहद सराहा गया है ।





सुब्रत बसु एवं अनुराग बसु लंबे समय तक भिलाई में रहे है उनके परिवार के अन्‍य सदस्‍य भिलाई में ही रहते हैं इस कारण पारिवारिक कार्यक्रमों में सुब्रद दादा व अनुराग बसु अक्‍सर भिलाई आते जाते रहे हैं । उनके स्‍थानीय निवासी बडे भाई शम्‍भूनाथ बसु का घर तब मित्रों, प्रसंशकों व मीडिया वालों के जमवाडे से दिन भर भरा रहता है, आज उस घर में वीरानी स्‍पष्‍ट भलक रही थी ।




उनके पारारिवारिक मित्रों नें बताया कि दादा के निवास गोरेगांव में 22 अगस्‍त की रात ब्‍लड प्रेसर की दवा लेने से भूल करने की वजह से सुबह उन्‍हें दिल का दौरा पडा एवं नानावटी के डाक्‍टरों नें सिर में क्‍लाट बताते हुए तत्‍काल आपरेशन किया था जिसके बाद से ही वे कोमा में चले गये थे, इसी हालत में वे 26 सितम्‍बर को आखरी सांस लिए ।



सुब्रत दादा नें छत्‍तीसगढ के रंगमंचीय कलाकारों जिस तरह से मदद किया है एवं उन्‍हें प्रेरणा दिया है उसे अंचल नहीं भुला सकता । अब भिलाई सहित संपूर्ण छत्‍तीसगढ सुब्रत दादा के संपूर्ण गुण एवं अस्तित्‍व को उनके होनहार पुत्र अनुराग बसु में ही निहार रहे हैं, क्‍योंकि छत्‍तीसगढ के रंगकर्म को नई दिशा व दशा देने में सुब्रत दा के स्‍थान पर मर्डर, मैट्रो, गैंगेस्‍टर, साया, तुमसा नहीं देखा, कुछ तो है व मीत जैसे सफलतम फिल्‍म देने वाले अनुराग बसु ही उनके खेवईया हैं ।

5 comments:

  1. लोककला के ऐसे साधक को हमारी ओर से भी श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  2. यह एक एक बड़ी क्षति है!

    श्रद्दांजलि हमारी !!

    ReplyDelete
  3. हमारी श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  4. सुब्रत दा को हमारी श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  5. ऐसे महान कलाकार तो अमर होते हैं, फिर भी सुब्रत वसु जी को हमारी श्रद्धांजलि!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

28 September, 2007

सुब्रत बसु : रंगकर्म के एक अध्‍याय का अंत

छत्‍तीसगढ अंचल के प्रख्‍यात रंगकर्मी एवं कई सिरियलों के निर्माता व निर्देशक, हिन्‍दी फिल्‍मों के शीर्ष निर्देशक अनुराग बसु के पिता सुब्रत बसु का निधन छत्‍तीसगढ सहित पूरे देश के लिए दुख का समाचार है ।



रायपुर फाफाडीह व रायपुर से भिलाई स्‍पात संयंत्र की सेवा स्‍वैच्छिक अवकाश लेकर 1987 से निरंतर मुम्‍बई में निवास करते हुए सुब्रत दादा नें देश में एक से बढकर एक नाटकों का मंचन किया है । उनके स्‍वयं के रंगमंचीय ग्रुप ‘अभियान’ के द्वारा कई महत्‍वपूर्ण नाटकों का मंचन किया गया है । छत्‍तीसगढ के भिलाई स्‍पात संयंत्र की कहानी पर आधारित स्‍टील बैले में सुब्रत दा का काम यादगार रहा है । भिलाई की जनता को इसके 40 से भी अधिक शो देखने का सौभाग्‍य प्राप्‍त हुआ है वहीं इस बैले का मंचन देश के अलग अलग शहरों में सफलता पूर्वक किया गया है जहां इसे बेहद सराहा गया है ।





सुब्रत बसु एवं अनुराग बसु लंबे समय तक भिलाई में रहे है उनके परिवार के अन्‍य सदस्‍य भिलाई में ही रहते हैं इस कारण पारिवारिक कार्यक्रमों में सुब्रद दादा व अनुराग बसु अक्‍सर भिलाई आते जाते रहे हैं । उनके स्‍थानीय निवासी बडे भाई शम्‍भूनाथ बसु का घर तब मित्रों, प्रसंशकों व मीडिया वालों के जमवाडे से दिन भर भरा रहता है, आज उस घर में वीरानी स्‍पष्‍ट भलक रही थी ।




उनके पारारिवारिक मित्रों नें बताया कि दादा के निवास गोरेगांव में 22 अगस्‍त की रात ब्‍लड प्रेसर की दवा लेने से भूल करने की वजह से सुबह उन्‍हें दिल का दौरा पडा एवं नानावटी के डाक्‍टरों नें सिर में क्‍लाट बताते हुए तत्‍काल आपरेशन किया था जिसके बाद से ही वे कोमा में चले गये थे, इसी हालत में वे 26 सितम्‍बर को आखरी सांस लिए ।



सुब्रत दादा नें छत्‍तीसगढ के रंगमंचीय कलाकारों जिस तरह से मदद किया है एवं उन्‍हें प्रेरणा दिया है उसे अंचल नहीं भुला सकता । अब भिलाई सहित संपूर्ण छत्‍तीसगढ सुब्रत दादा के संपूर्ण गुण एवं अस्तित्‍व को उनके होनहार पुत्र अनुराग बसु में ही निहार रहे हैं, क्‍योंकि छत्‍तीसगढ के रंगकर्म को नई दिशा व दशा देने में सुब्रत दा के स्‍थान पर मर्डर, मैट्रो, गैंगेस्‍टर, साया, तुमसा नहीं देखा, कुछ तो है व मीत जैसे सफलतम फिल्‍म देने वाले अनुराग बसु ही उनके खेवईया हैं ।
Disqus Comments