ब्लॉग छत्तीसगढ़

01 August, 2008

जनहित में जारी

11 comments:

  1. संजीव जी, कार्टून पढ कर मजा आ गया। इन चुटीले कार्टून्स के लिए बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  2. कार्टून की सामयिकता की बधाई जी!
    पिछली बार मेरे पिताजी के कार्ड में एक नारी का फोटो था। अब हम क्या कहें! :-)

    ReplyDelete
  3. हा हा हा

    बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. ha ha ha ha really very interesting.....

    ReplyDelete
  5. :)हम्म तो आज कल कॉर्टून पर आ गये

    ReplyDelete
  6. लपक के शानदार!!!

    त्र्यंबक जी को बधाई और आपका शुक्रिया!

    ReplyDelete
  7. संजीव जी,

    कार्टून बहुत ही प्रासंगिक है.

    बधाई!

    ReplyDelete
  8. kya baat hai . mazaa aa gaya. parichaya patron par achhaa vyang bhi hai.

    ReplyDelete
  9. yaar aap dimag bahut kharch karte ho,,ye india hai,,yaha man power bahut adhik hai,,yadi gadbad nahi hogi to kaam ka bojh kaise badhega,,aur aadmi kaha khapenge,,,

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts