ब्लॉग छत्तीसगढ़

12 August, 2008

रायपुर प्रेस क्‍लब में पहुचे ब्‍लागर्स

कल हम रायपुर में अपना व्‍यावसायिक कार्य निबटा कर कुछ समय के लिये फ्री हुए तो हमने सोंचा कि ब्‍लागरी मीटिंग कर ली जाय, हमारी मीटिंग होती है भाई संजीत के घर में पर महोदय अब सचमुच में आवारा बंजारा हो गए हैं पत्रकार का झोला फिर से थाम लिया है और वो भी सिटी कवर कर रहे हैं सो दिन भर रायपुर की गलियां नापते हैं, हमें घर में मिलते ही नहीं । तो हमने सोंचा बडे भाई मानस जी से मिला जाय, खाडी प्रवास से आये हैं जय जोहार हो जायेगा, पर उनका मोबाईल लगा नहीं । फिर हमने हिम्‍मत कर के  हमारे प्रदेश के छत्तीसगढ़ पत्रकार महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष और अब हमारे हिन्‍दी ब्‍लाग जगत मुखर मुखिया, रायपुर प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष अनिल पुसदकर जी से मिलने का मन बनाया । सो हम  संजीत जी को खोजकर उनके साथ प्रेस क्‍लब के लिये रवाना हो गए ।


अनिल पुसदकर जी प्रेस क्‍लब में पत्रकार बंधुओं के साथ बैठे थे, शायद एक मीटिंग तय थी जिसका समय हो रहा था, हमने फोन पर ही एपांइंटमेंट ले लिया था, सो हमनें डरते झेंपते प्रेस क्‍लब में प्रवेश किया, कारण यह कि संजीत व अनिल भाई, दो दो पत्रकार व ब्‍लागर उसमें भी पत्रकारों के प्रदेश मुखिया से मिलने में किंचित सकुचाहट हो रही थी, सुना था बहुत स्‍पष्‍ट वादी कडक ब्‍यक्ति हैं । पर शंकायें निर्मूल निकली भाई हमसे बडी आत्‍मीयता से मिले, अपने पत्रकार मित्रों से परिचय कराया  व उन्‍होंनें हमें रायपुर प्रेस क्‍लब के नवनिर्मित एवं सभी आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित  कान्‍फ्रेंस हाल दिखलाया, जो महानगरों के प्रेस कान्‍फ्रेंस हाल के अनुरूप बनाया गया है । मैं सदियों से मोतीबाग के उस प्रेस क्‍लब के कान्‍फ्रेंस हाल को, जब जब ऐसा कोई प्रसारण होता है तब से टीवी में देखता रहा हूं ,  सचमुच में  कायाकल्‍प हो गया है । इसका श्रेय अनिल भईया को ही जाता है क्‍योंकि उनके जैसा जुझारू व कर्मठ पत्रकार के बूते ही है यह काम, उनकी सोंच छत्‍तीसगढ के प्रेस व पत्रकारों को भी महानगर जैसी उंचाईयां देने का है । मैं कान्‍फ्रेंस हाल में खोया रहा और संजीत जी के साथ पत्रकार बंधु जुट गये चर्चा ब्‍लागरी पर जम गई । 


अमिताभ, लालू सहित नये ब्‍लागर मनोज बाजपेई, रवि रतलामी, ज्ञानदत्‍त पाण्‍डेय,  शिवकुमार मिश्र जी, डॉ.अनुराग जी, कस्‍बा वाले रविश जी, बालकिशन जी, दिनेशराय द्विवेदी जी, अनूप शुक्‍ल जी, अजित वडनेरकर जी सहित रंजू जी, अनुराधा श्रीवास्‍तव जी, मीनाक्षी जी, अनिताकुमार जी, सीमा दानी  आदि सभी नियमित हिन्‍दी ब्‍लागरों पर एवं उनके हालिया पोस्‍टों पर चर्चा हुई । अनिल भाई नें स्‍वीकारा कि उन्‍हें यह ब्‍लागरी भा गई है और वे अब इसमें रम गये हैं । हमें खुशी है कि छत्‍तीसगढ में अनिल भईया जैसे हिन्‍दी ब्‍लागर अब ब्‍लागरी में जम गये  हैं ।



पत्रकारों की महफिल थी अत: छत्‍तीसगढ पर संजय तिवारी जी के विस्‍फोट डाट काम के जैसा पोर्टल बनाने के संबंध में भी भाईयों नें रूचि जताई । ब्‍लाग के लड्डू के दीवानों नें पूरी तन्‍मयता से हम तीनों की ब्‍लागरी को सुनते रहे, साथ ही यह भी तय हुआ कि इस माह एक दिन संजीत भाई का प्रेस क्‍लब में ब्‍लाग पर एक प्रेजेंटेशन भी करवा दिया जाय ताकि पत्रकारों को इसका लाभ मिल सके और छत्‍तीसगढ में ब्‍लागों की संख्‍या में वृद्धि हो । 

हमारी बातों में रूचि लेने वालों में अन्‍य पत्रकारों सहित पत्रकार कम शायर ज्‍यादा हाजी मोहसिन अली सुहैल एवं एक स्‍थानीय अखबार के समाचार संपादक संजीव वर्मा जो शीध्र ही इस ब्‍लाग कीडे से संक्रमित होने वाले हैं, शामिल थे ।  और भाईयों का नाम याद नहीं आ रहा है माफ करेंगें, दरउसल  संजीत भाई नें विज्ञप्ति ही नहीं दिया ना और हम तो पत्रकारिता के पहली क्‍लास में हैं । 

(फोटो में दायें से अनिल पुसदकर जी एवं मैं संजीव तिवारी, फोटो संजीत भाई के मोबाईल कैमरे से खींची गई है) 

संजीव तिवारी 

13 comments:

  1. संजीव जी कभी हमें भी याद कर लिया करें :) अच्छा लगा इस रिपोर्ट को पढ कर। यदि छत्तिसगढिया ब्ळोगर्स सामूहिक गतिविधि के लिये एकत्रित हो रहे हैं किसी नये ब्लॉग पर तो मुझे स्वयं का ही प्रस्तावक मानें :)


    ***राजीव रंजन प्रसाद

    ReplyDelete
  2. राजीव जी, आपको याद जरूर किया गया । छत्‍तीसगढिये ब्‍लागर्स की लिस्‍ट हमर छत्‍तीसगढ से अब स्‍थानीय नेट प्रयोक्‍ता परिचित हो रहे हैं । आपकी रचना नक्सलवाद और महाराज प्रबीर चंद भंजदेव की हत्या: थोडा आज, कुछ इतिहास एवं इस श्रृंखला के सभी लेखों पर यहां के लोगों का ध्‍यान मैं समय समय पर आकृष्‍ट कराते रहा हूं ।

    सामूहिक गतिविधि में हम सभी छत्‍तीसगढी ब्‍लागर्स साथ रहेंगें ।

    ReplyDelete
  3. Mp alag ho bhale gaya ho magar main to judi hui hoon
    chathhis gadh se
    isiliye yaad rakhiyega


    milana aapka achha raha hoga
    is tarah ki mulaqaat hamesha hi kuch naye vichar laati hai
    umeed hai ki jald hi hum kuch naya dekhenge

    ReplyDelete
  4. खाड़ी में आने वाले साहित्यकारों और हिन्दी विकास के बारे मे जानने की इच्छा थी लेकिन हमे जानने सुनने का अवसर ही नही मिला... छत्तीसगढ़ के ब्लॉगर्ज़ के बारे मे जानकर अच्छा लगा और आने वाली मुलाकातों के वर्णन का भी इंतज़ार है.

    ReplyDelete
  5. sanju bhai maine socha tha aap logo se mulakat ki khabar main post karunga par wo mauka mere hath se nikal gaya,khair aap aaye hum sab ko achha laga,han aapne meri tareef thoda jyaada kar di uske liye main aapka aabhari hun,waise sach me main utna muhfat ya badtameez,ya kadak nahi hun jitna prachaarit kiya jaata hai.aapne mujhe samjha iske liye ek baar fir aabhar is umeed ke saath ki mulaakaton ka ye silsila chalta hi rahega,agli mulaaqat ke intezaar men

    ReplyDelete
  6. अच्छा लगा इस रिपोर्ट को पढ कर-बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  7. really nice to read this article about bloggers meeting, great efforts in this field, all the best.

    Regards

    ReplyDelete
  8. बढ़िया रपट।
    चलिए देखते हैं कि और कितने लोगों को ब्लॉग कीड़े से संक्रमित कर पाते हैं अपन, अभियान तो अपना जारी ही रहेगा।

    ReplyDelete
  9. maza aagaya bhent-mulaaqat dekh kar.kaash k main bhi raipur mein hi hota.
    aneel bhaiya kamaal hain hi aur bhai ap bhi blogeron mein ikkis ho.
    dheron mubarak baad aazadi ke saath.

    ReplyDelete
  10. वस्तव में छत्तीसगढ़ी ब्लॉगर जाने किस चक्की का खाते हैं; कमाल की पोस्टें लिखते हैं!

    ReplyDelete
  11. अच्छी बात है कि रायपुर में हिन्दी ब्लोगिंग इतनी प्रचलित है. आप लोग मिलते रहते हैं यह जानकर अच्छा लगा. शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  12. प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts