ब्लॉग छत्तीसगढ़

18 October, 2008

रावण का आकर्षण

9 अक्टूबर की संध्या दुर्ग के स्टेडियम से रावण दहन के बाद बाहर निकला । मुख्य दरवाजे के पास ही पीछे आ रहे परिवार के कुछ और सदस्यों का इंतजार करने लगा । भीड में से दस पंद्रह पुलिस वाले अचानक प्रकट हुए और सीटी बजाते हुए भीड में जगह बनाने लगे । सायरन की आवाज गूंजने लगी, मैंनें सोंचा कार्यक्रम में आये मंत्री हेमचंद यादव जी या मोतीलाल वोरा जी निकल रहे होंगें । सो अनमने से सायरन की आवाज की दिशा की ओर देखने लगा । नेताओं के लिये बनाई गई खुली जीप में रावण का श्रृंगार किये एक विशालकाय व भव्य शरीर का पुरूष हाथों में तलवार लहराते खडा था । जीप में राक्षसों का मुखौटा पहने व राजसी वस्त्र पहनें लगभग दस युवा भी थे जो लंकापति रावण की जय ! और जय लंकेश ! का जयघोष कर रहे थे । हूजूम का संपूर्ण ध्यान उस पर ही केन्द्रित हो गया । पलभर के लिए शरीर उस कृत्तिम आकर्षण व भव्यता  को देखकर रोंमांचित हो गया । गोदी में उठाए अपने भतीजे को उंगली के इशारे से रावण को दिखाया । मेरा पुत्र भी उस दृश्य व परिस्थितियों को देखकर रोमांचित हो रहा था । समूची भीड जो रास्ते के आजू बाजू खडी थी समवेत स्वर में जय लंकेश ! का घोष कर रही थी और जीप में सवार रावण अपना तलवार हलरा - लहरा कर उनका उत्साह बढा रहा था ।

लगभग दो तीन मिनट तक यह दृश्य आंखों के सामने रहा फिर जीप भीड को चीरती हुई निकल गई । मेरे परिवार के सभी सदस्य तब तक वहां आ गये । भीड कुछ कम होने पर मैंनें अपने 12 वर्षीय पुत्र से पूछा कि तुमने भी जय लंकेश ! का नारा लगाया क्या उसने कहा नहीं किन्तु मन हो रहा था, होठ बुदबुदा रहे थे ।

रावण की जीप के बाद नेताओं एवं शहर के गणमान्य व्यक्तियों की गाडियां सायरन बजाती निकली फिर सौम्य सौंदर्य के प्रतिमूर्ति दो किशोर राम व लक्षण के वेश में राज सिंहासन में एक खुले ट्रक में आसीन गुजरने लगे । माहौल राम मय हो गया, जय श्री राम के नारे गूंजने लगे । हम सब के मुह से ये शव्दे यंत्रवत निकलने लगे । स्टेयडियम से रेस्तोरॉं में खाना खाने के बाद घर आने  तक मेरे मन में रावण का वह रूप और तदसमय की परिस्थितियां उमड घुमड रही थी । लोगों का उत्साह बार बार आंखों के सामने आ जा रहे थे ।


दोपहर में ही मेरे गृह नगर में भीड द्वारा बारह बस जला दिये जाने का समाचार मिल गया था सो सुबह का प्लान वहां जाने का बनाकर मैं सोने लगा । दृश्य गांव का पुन: याद आने लगा, वहां किशोर वय में हम रामलीला में विभिन्न पात्रों को अभिनीत करते थे तब रामयाण सीरियल का प्रसारण दूरदर्शन से नहीं हुआ था । ज्यादातर पात्र मेरे भाई भतीजे या रिश्तेदार ही अभिनीत करते थे । मेरा एक चचेरा भाई अपने वृहद व्यक्तित्व के कारण सदैव रावण बनता था और दूसरा किसी वर्ष राम तो किसी वर्ष लक्ष्मण । हम पूरे दस दिन हिल मिल कर अपनी प्रस्तुति गांव के बीच बने 'गुडी' में टैम्‍परेरी स्‍टेज बनाकर देते थे किन्तु दशहरे के दिन की प्रस्तुति हमें गांव के नदी किनारे के बडे खुले मैदान 'रावण भांठा' में देनी होती थी और वहां गांव के ही पटेल के घर से पूरा श्रृंगार कर जाना होता था । वहां तक पहुचने के लिए राम लक्ष्मण व रावण को तीन सायकल की व्यटवस्था स्वयं करनी पडती थी । गांव में सबको आकर्षित करते हुए जय श्री राम ! व जय लंकेश ! के नारों के साथ मैदान तक जाने में बहुत रोमांच व आनंद आता था । परिपाटी के अनुसार राम लखन सायकल में बैठते तो थे किन्तु उनकी सायकल पैदल हाथ में लेकर कोई चलता था । रावण दस सिर का मुकुट पहने कंधे में धनुष लटकाए एक हाथ में तलवार लेकर अपनी राक्षसी दल के साथ स्वयं सायकल चलाते हुए जाता था ।


यह क्रम दो तीन साल चला फिर घर में मोटर सायकल आ गया और हममे से ज्यायदातर भाई मोटर सायकल चलाना सीख गए । इस बार के दशहरे में एक मोटर सायकल और दावेदार दो, राम और रावण । उस वर्ष राम बनने की बारी मेरे दूसरे भाई की थी, रावण के लिए परमांनेंट मेरा चचेरा भाई । उन दोनों के मन में था कि पटेल के घर से श्रृंगार करके मोटर सायकल चलाते हुए मैदान तक जांए । किन्तु, श्रृंगार कर काफी तू तू मैं मैं के बाद फैसला मेरे बाबूजी के हाथ में गया और उन्होंनें रावण को ही इसके लिये चुना । हम मुकुट पहने मुरदारशंख, काजल व रोली, अभ्रक से अटे मुख में दोनों को लडते देख देख कर हंसते रहे । रावण बना मेरा भाई राजदूत को किक मारकर स्टार्ट किया और अपने चितपरिचित अंदाज में आंखें तरेरता हुआ अपनी राक्षसी सेना के साथ बढ चला । जय लेकेश ! के नारे के साथ गांव की अधिकांश भीड रावण व राजदूत के आकर्षण में उसके पीछे पीछे दौंड पडी । राम बने दूसरे भाई को क्रोध तो काफी आया पर अगले साल देखेंगें, सोंचकर राम लक्ष्मण की टोली सायकल ठेलते पेलते रावण भाठा की ओर बढ चली ।

कुछ सालों तक यह क्रम चलता रहा फिर घर में गाडियों की संख्यां में वृद्वि के साथ ही दूसरे भाई की इच्छा की भी पूर्ति हो गई किन्तु भीड का आकर्षण रावण बना वह भाई ही रहा । रावण दहन के बाद जो स्नेह-प्रेम व श्रद्धा गांव वालों से राम लक्ष्मण बने भाईयों को मिलती थी उसके सामने सभी सम्मान व आर्कषण थोथे पडते थे । किन्तु , किशोर मन उस समय उसका अर्थ नहीं समझता था । आज जब इन दोनों घटनाओं को जोडता हूं तो भी रावण का पक्ष ही हावी नजर आता है । राम का आदर्श पारंपरिक रूप में अटक चुके रिकार्ड तवे की भांति जय जय ! के घोष में सिमट जाता है और जय लंकेश ! पूरी मुखरता के साथ होटो में बुदबुदाता है ।

संजीव तिवारी

7 comments:

  1. कलयुग मे रावण का ही तो आकर्षण रहेगा संजीव भैया। अच्छा लिखा आपने क्योंकी आप अच्छे इंसान है,ये मैं अच्छी तरह से जानता हूं।

    ReplyDelete
  2. आपकी कही एक एक बात दिल में उतर गई..

    ReplyDelete
  3. सच है भाई, रावण का ग्लैमर राम से कहीं ज्यादा है। कहां सोने की लंका और कहां पर्णकुटी!

    ReplyDelete
  4. sanjeev bhai
    ravan ki importance is liyae bhi haen ki raam ka astitv banaa rahey .
    ek ravan naa hota to kya raam itni shidaat sae pujtey
    kalpanik charitr haen sab shyaad bas hamaari aastha sae judey haen
    aur aaj bhi jab kahii koi buraa dikhta haen ham jhaank jhaank kar daekhtey haen par
    achchii ko kaun daekhtaa haen
    sach kadva haen so pachtaa nahin
    regds
    rachna

    ReplyDelete
  5. ज्ञानदत्त जी से सहमत हुँ ग्लैमर ही कलयुग की असली पहचान हो गयी है !!

    ReplyDelete
  6. "Environmental awareness songs" par comment dene ke liye shukriya. Apki rachana pasand aai.chhattisgarh bloger main shamil karne ke liye dhanyabad.sambhav ho to news paper main yah jankari awashya den.

    ReplyDelete
  7. रावण "जय लंकेश" के लिए होठ बुदबुदाने का उत्तर आपके ही एक पुराने पोस्ट में छिपा हुआ है.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts