ब्लॉग छत्तीसगढ़

18 February, 2010

लघु भारत भिलाई का आभार

मैंनें छत्तीसगढ के असुरों के संबंध में एक लंबे आलेख में भारत और छ्त्तीसगढ  के लोहे के विश्वव्यापी उपयोग के इतिहास के सम्बन्ध मे लिखा है जो आज के संदर्भ में आवशयक है इसलिये इसे यहां सन्दर्भित कर रहा हूं. भिलाई स्टील प्लांट  के  पूर्व के इतिहास को खंघालने से हमे पता चलता है कि सन् 1930 में सर दाराबजी टाटा को नागपुर पुरातत्व संग्राहालय में एक पुराना भौगौलिक नक्शा मिला और उससे उन्हें ज्ञात हुआ कि नागपुर के उत्तर पूर्वी क्षेत्र छत्तीसगढ के तरफ भारी मात्रा में लौह अयस्क भंडार है. 
इसके चलते वे छत्तीसगढ के दुर्ग नगर तक आये और इसके डौंडी तहसील के लौह अयस्क भंडार को देखकर आश्चर्यचकित हो गए. उन्होंनें प्रारंभिक तौर पर ठाना कि यहां वृहद स्टील प्लांट का निर्माण किया जाए किन्तु मौजूदा लौह भंडार के अनुपात में जल व कोयले की पर्याप्त मात्रा नजदीक में नहीं होने की वजह से उन्होंनें यहां वृहद स्टील प्लांट के निर्माण का इरादा बदल दिया और वे बिहार के जमशेदपुर में तद्समय के वृहद स्टील प्लांट का निर्माण कर टाटानगर बसा दिया. 
यहां छत्तीसगढ में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की दूरदृष्टि से भिलाई में सोवियत रूस के सहयोग से भिलाई स्टील प्लांट का निर्माण हुआ जो विश्व के सर्वाधिक उत्पादन का कीर्तिमान पर कीर्तिमान स्थापित करता रहा. इस वर्ष भी यह शिखर पर रहा. इसे 8 वी और 9 वी बार प्रधानमंत्री ट्राफी प्रदान किया गया.  इस अवसर पर हम हमारे ब्लागर साथी बी एस पाबला जी, विनोद साव जी, अशोक सिंघई जी सहित भिलाई स्टील प्लांट के सभी अधिकारियो/कर्मचारियो का हृदय से अभिनन्दन करते है.
संजीव तिवारी

11 comments:

  1. लगता है कि यह आलेख अपने विस्तृत रूप में आप पहले भी पढवा चुके हैं मुझे !
    कहीं यह मेरा भ्रम तो नहीं ?

    ReplyDelete
  2. संभवतः कीर्तिमान वाली बात को छोड़कर !

    ReplyDelete
  3. लगातार कीर्तिमानों की नईं ऊँचाईयाँ छू रहे भिलाई इस्पात संयंत्र का एक हिस्सा होने की वजह मात्र से मैं कुछ अधिक ही गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ

    आभार सभी समर्पित साथियों का

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  4. भिलाई प्लांट और उस के कर्मचारियों प्रबंधकों को बधाई। यह इस बात का भी द्योतक है कि सार्वजनिक क्षेत्र में बहुत दम है।

    ReplyDelete
  5. बाकी सब ठीक लेकिन ये बताओ भैया, ये 50X4 अर्थात 50 बाई4 कालम का अखबारी विज्ञापन आपने ब्लॉग पे कैसे ले लिया

    ;)

    ReplyDelete
  6. उत्तम समाचार.

    भिलाई स्टील प्लांट में कार्यरत सभी ब्लॉगरर्स का हादिक अभिनन्दन!

    छत्तीसगड्ग के लिए गौरव का विषय है.

    ReplyDelete
  7. .... आप सभी को बधाईंया !!!

    ReplyDelete
  8. भिलाई के विषय में बहुत ही अच्छी जानकारी दी आपने संजीव जी!

    ReplyDelete
  9. मै अभी दुर्ग गई थी एक सेमिनार में ,तो भिलाई जाना हुआ ! वहां के जनसम्पर्क अधिकारी मि० अज़ीज़ खान कर्तव्य निष्ठ ,और शायर हैं !
    छतीस गढ़ शांत और सुंदर है !आप की पोस्ट अच्छी लगी धन्यवाद !

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

loading...

Popular Posts