ब्लॉग छत्तीसगढ़

20 October, 2011

कविता संग्रह : समुद्र, चॉंद और मैं

गूगल बुक्‍स में छत्‍तीसगढ़ के रचनाकारों के उपलब्‍ध पुस्‍तकों को मित्रों के नजर में लाने के उद्देश्‍य से हमने पूर्व में  'खुला पुस्‍तकालय' के नाम से ब्‍लॉग बनाया था। जिसमें दर्जनों कहानी संग्रह, आदिम लोक जीवन, थियेटर व नाटक प्रस्‍तुत किया गया है। लेखकों में  मुक्तिबोध, प.प.ला.बख्‍शी, विनोद कुमार शुक्‍ल सहित छत्‍तीसगढ़ के अन्‍य रचनाकारों की कृतियां गूगल बुक से साभार यहां प्रस्‍तुत है। 

पिछले दिनों हमने छत्‍तीसगढ़ के वरिष्‍ठ साहित्‍यकार डॉ.परदेशीराम वर्मा जी के छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास आवा को ब्‍लॉग के रूप में प्रस्‍तुत किया और उसके संबंध में यहॉं एक परिचय पोस्‍ट लिखा। पाठकों में श्री रविशंकर श्रीवास्‍तव जी की टिप्‍पणी आई कि छत्‍तीसगढ़ के साहित्‍यकारों की रचनाओं को आनलाईन प्रस्‍तुत करने के लिए अलग-अलग ब्‍लॉग बनाने के बजाए किसी एक ही जगह पर इन्‍हे प्रस्‍तुत किया जाए ताकि पाठकों को एक ही जगह पर छत्‍तीसगढ़ के रचनाकारों की रचनांए सुलभ हो सके। हमने 'खुला पुस्‍तकालय' ब्‍लॉग को गूगल बुक्‍स में उपलब्‍ध छत्‍तीसगढ़ के रचनाकारों की पुस्‍तकों को एक जगह प्रस्‍तुत करने के उद्देश्‍य से बनाया था, रवि भाई के सुझाव नें हमें बल दिया और अब हम इसे आपके लिये पुन: नियमित रूप से प्रस्‍तुत करने का प्रयास कर रहे हैं। इसमें हम क्रमिक रूप से छत्‍तीसगढ़ के साहित्‍य को टैक्‍स्‍ट रूप में प्रकाशित करेंगें। आज पहली कड़ी में प्रदेश के वरिष्‍ठ कवि श्री अशोक सिंघई जी की कविता संग्रह समुद्र, चॉंद और मैं की पहली कविता प्रस्‍तुत कर रहे हैं। अशोक जी की एक कविता संग्रह सुन रही हो ना को हम पूर्व में आनलाईन यहॉं प्रस्‍तुत कर चुके हैं। .... आप सबसे अनुरोध, एक क्लिक अवश्‍य करें ..  'खुला पुस्‍तकालय'  आपके लिये...  

संजीव तिवारी 

11 comments:

  1. बढिया स्‍तुत्‍य प्रयास।
    शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  2. ढेरों-ढेर बधाई और शुभकामनाएं. एक और महत्‍वपूर्ण काम का बीड़ा उठाया है आपने. इसे अपने स्‍थायी संदर्भ में तो रख ही रहा हूं और इस काम में अपने सहयोग के लिए हरसंभव प्रस्‍तुत रहूंगा.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    यहाँ पर ब्रॉडबैंड की कोई केबिल खराब हो गई है इसलिए नेट की स्पीड बहत स्लो है।
    बैंगलौर से केबिल लेकर तकनीनिशियन आयेंगे तभी नेट सही चलेगा।
    तब तक जितने ब्लॉग खुलेंगे उन पर तो धीरे-धीरे जाऊँगा ही!

    ReplyDelete
  4. सार्थक प्रयास के लिये आभार..

    ReplyDelete
  5. बहुत बढिया प्रयास .. बधाई और शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति .....

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  10. सुन्दर प्रस्तुति| दीवाली की शुभ कामनाएं|

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...शुभकामनायं....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts