ब्लॉग छत्तीसगढ़

23 January, 2013

चारी म बुड़ना, चपका बॉंधना व चँगोर फोरना

बुराई करने में समय गवांने या बुराई करने में रत रहने पर छत्तीसगढ़ी में ‘चारी म बुड़ना’ कहा जाता है। छत्तीसगढ़ी में 'चार' चार अंक को तथा एक फल जिससे चिरौंजी का दाना निकलता है को कहते हैं. गोंडी में 'चार' सीताफल को भी कहा जाता है. इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द ‘चारी’ का विकास संस्कृत के ‘चाटु’ व ब्रज के ‘चाड़ी’ से हुआ है। इन दोनों भाषाओं में इसका आशय निंदा, बुराई, चुगली, अपयश से है। ‘चारी’ शब्द का विच्छेद करने इसमें चार लोगों में बात को फैलाने का भाव स्पष्ट नजर आता है, कालांतर में बात फैलाने का यह भाव चुगली करने के लिए प्रयुक्त होने लगा होगा।

मुह बंद करना या चुप करा देने के लिए छत्तीसगढ़ी में ‘चपका बॉंधना’ मुहावरे का प्रयोग होता है। आईये अब इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द ‘चपका’ को समझने का प्रयास करते हैं।

नीरवता की स्थिति, शांति या स्थिर रहने की स्थिति के लिए संस्कृत में एक शब्द ‘चुप्’ है। इसी से ‘चप’ का प्रयोग आरंभ हुआ होगा और छत्तीसगढ़ी शब्द ‘चपक’ जैसे शब्द विकसित हुए होंगें। दबाने की क्रिया या भाव के लिए छत्तीसगढ़ी में ‘चपक’ व ‘चपकई’, ‘चपकना’ जैसे शब्द प्रयुक्‍त होते हैं। ‘चपक’ से बने शब्द ‘चपका’ का आशय इससे स्पष्ट हो रहा है, दबाये हुए को ‘चपका’ कहा गया।

नजदीक के अन्य शब्दों को भी देखें, तहबद्ध रखने की क्रिया या भाव के लिए ‘चपई’ शब्‍द प्रचलित है इसका प्रयोग दबाकर रखने के लिए भी होता है। किसी वस्तु या बात को छिपाकर रखने की, चुरा लेने की क्रिया या भाव के लिए ‘चपकई’ शब्द का प्रयोग होता है। दबाने के इस भाव से विकसित छत्तीसगढ़ी शब्द ‘चपलना’ का प्रयोग होता है जिसका आशय अतिक्रमण करने के भाव से है। पशुओं के मुह पर होने वाली एक संक्रामक बीमारी जिससे उनका मुह नहीं खुलता, छत्तीसगढ़ी में इस बीमारी को ‘चपका’ कहते हैं। मंगत रवीन्द्र जी इससे मिलते जुलते शब्दों में ‘चापन’ का तीन आशय चतुर, मजाक व परीक्षा बतलाते हैं।

चँगोर फोरना छत्‍तीसगढ़ी के इस मुहावरे का भावार्थ मृत्‍यु का शाप देना है। इस मुहावरे में प्रयुक्‍त ‘चंगोर’ व ‘फोरना’ को समझने का प्रयास करते हैं।

सामान्‍य प्रयोग में हाथ की चार उंगलियों के लिए हिन्‍दी शब्‍द ‘चंगुल’ है, इससे ही ‘चंगोरा’ का विकास हुआ है। छत्‍तीसगढ़ी में ‘च’ प्रत्‍यय का प्रयोग निश्चितता बोधक के रूप में होता है, यथा ‘मोरेच : मेरा ही’, ‘तोरेच : तेरा ही’। किन्‍तु यहॉं इस प्रत्‍यय से शब्‍द बनने का आभास नहीं हो रहा है। एक और प्रचलित शब्‍द है ‘चंगुरई’ इसका आयाय उँगलियों के समान हाथ पैर का मुड़ जाना या चल ना पाने के लिए छत्‍तीसगढ़ी में प्रयोग होता है। फारसी में ‘चंगुल’ का प्रयोग किसी चीज को पकड़ते समय हाथ के पंजे की स्थिति के लिए होता है। इसके अनुसार हाथ की अंगुलियों से संबंधित भाव ही ‘चंगोर’ के पीछे स्‍पष्‍ट प्रतीत होता है। हिन्‍दी के ‘चार’ व ‘अंग’ एवं ‘ओर’ से ‘चंगोर’ का निर्माण प्रतीत होता है। इससे भी हाथ के चार उंगलियों से किसी वस्‍तु को पकड़ने का भाव प्रकट होता है।

अन्‍य समीप के शब्‍दों में चार कोने वाली बांस की बनी टोकरी को छत्‍तीसगढ़ी में ‘चंगोरा’ कहा जाता है। कहीं कहीं इसी टोकरी के छोटे रूप को ‘चंगोरिया’ भी कहा जाता है, हिन्‍दी में इसे संभवत: ‘चौगोशिया’ कहा जाता है। कसे हुए या व्‍यवस्थित रूप या भाव के लिए छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द ‘चंगचंग ले’ का प्रयोग होता है जो ‘चंगा’ से बना प्रतीत होता है।

हिन्‍दी में प्रचलित शब्‍द ‘फोड़ना’ के समानअर्थी रूप में छत्‍तीसगढ़ी शब्‍द ‘फोरना’ का प्रयोग होता है। संस्‍कृत शब्‍द ‘स्फोटन’ से इस शब्द का निर्माण हुआ है। तोड़ना, खंडित करना, दबाव के कारण किसी चीज को भेदकरबाहर निकलना, किसी को दूसरे पक्ष से निकालकर अपने पक्ष में करना, किसी संगठन को भंग करना के लिए छत्‍तीसगढ़ी में ‘फोरना’ का प्रयोग होता है। इसी से ‘फोरईया’ व ‘फोरउनी’ बना है।

नजदीक के शब्‍दों में सब्‍जी आदि में छौंक लगाने की क्रिया को छत्‍तीसगढ़ी में ‘फोरन’ कहा जाता है। सब्‍जी की डली या टुकड़े को ‘फोरी’, ‘फरी’ या ‘फारी’ कहा जाता है। शरीर में उभरने वाले बड़े दाने, फुंसी, व्रण को छत्‍तीसगढ़ी में ‘फोरा’ कहा जाता है।


बस्तिरहा गोंडी में पक्षी फसाने के जाल को 'चोप' कहते हैं, यह 'चोप' भी चपका के नजदीकी का आभास देता है. बात से शरीर के जकड़ने की बीमारी को 'चौरंगा' व रस्सी से बुनी चौकोर चौकी को 'चौरंगी', बांस को चार भाग में फाड़ना को 'फरना' कहते हैं.

2 comments:

  1. आकाश चंद्रवंशी जी फेसबुक में -
    छत्तीसगढ़ी मुहावरे को अल-सुबह ब्लागर/फेसबुकिया मित्र श्री संजीव तिवारी (साहब/जी नहीं) गोदली बम की तरह फोड़ा। इसके साथ ही दो और शब्द थे- चपका बॉधना अऊ चँगोर फोरना। इसके असली अर्थ/अनर्थ आप उनसे सीधे जान लें।
    चौकड़ी यदी ठान लें कि उनके पास केवल एक काम है- चारी में बुड़ना हे अऊ राड़ी हाड़ी के गोठ करना है त भौजई करी का लेही। रजिया ह फसही, मुन्नी ल तो बदनाम सगा मन करी डरे हे

    ReplyDelete
  2. Gokul Soni जी फेसबुक में -
    आपके इस ब्लाग में चोप का जिक्र हुआ है। मुझे जहां तक जानकारी है। चोप एक चिपचिपा गोंद की तरह होता है। शिकारी इसे उस पेड़ की डंगाल पर लेप लगा देतें है जहां पक्षी आकर हमेशा बैठती है। बैठते ही पक्षी के पैर डंगाल पर चिपक जाता है। चोप को बड़ पेड की दूध से बनाते है। हां, पुराने समय में गांव की महिलांए अपनी प्यास्टिक की बिंदी को माथे पर चिपकाने के लिए भी चीज पद्वार्थ का उपयोग करती थी उसे भी चोप करते हैं।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts