ब्लॉग छत्तीसगढ़

29 January, 2013

गरहन तीरना और गर से संबंधित मुहावरे

छत्तीसगढ़ी मुहावरा गरहन तीरना का भावार्थ अपंग होना से है. शब्द विच्छेद करते हुए छत्तीसगढ़ी शब्द 'गरहन' को देखें तो इसमें 'गर' और 'हन' का प्रयोग हुआ है. सामान्य बोलचाल में छत्तीसगढ़ी शब्द 'गर' का प्रयोग गलने के भाव या क्रिया के लिए एवं गरदन के लिए प्रयोग में आता है. गरदन के अभिप्राय से प्रयुक्त 'गर' से बने शब्दों में गरदन काटने वाला यानी भारी अनिष्ट करने वाले, हानि पहुचाने वाले को 'गरकट्टा' कहा जाता है. इसी भाव के कारण पौधों की बाली या कली व फूल को काटने वाले एक कीट को भी 'गरकट्टा' कहा जाता है. गरदन के लिए प्रयुक्त 'गर' से बने मुहावरों में 'गर नवाना : अधीनता स्वीकार करना, शर्मिंदा होना', 'गर अंइठना : गला दबाकर मार डालना', 'गर फंसना : बंध जाना या संकट में फसना' आदि हैं.

गरदन के अर्थ से परे 'गर' के साथ प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्दों में तेज बहाव, तीव्र ढाल वाली भूमि या पानी को शीघ्र सोंख लेने वाली भूमि को 'गरगरा' कहा जाता है. पौधों के जड़ मूल या वह भाग जो मिट्टी को जकड़ ले उसे 'गरगंसा' कहते हैं. संस्कृत शब्द गर्जन के अपभ्रंश से बने 'गरज' का अर्थ हिन्दी के ही समानार्थी बादल के गरजने या किसी गंभीर आवाज, दहाड़ आदि से है. वहीं अरबी शब्द 'ग़रज़' से बने छत्तीसगढ़ी 'गरज' का आशय मतलब, प्रयोजन, जरूरत, इच्छा, स्वार्थ, चाह है. वाक्य प्रयोग में 'मन गरजी : मन मुताबिक या मन के अनुरूप', 'मोला गरज नइ परे हे : मुझे जरूरत नहीं पड़ी है' आदि. 

आम की वह अवस्था जिसके गूदे को आसानी से चूसकर निगला जा सके उसे 'गरती' कहते हैं, यथा 'गरती आमा'. फारसी शब्द 'गर्द' से बने 'गरदा' का आशय धूल, खाक है, इसी से बने शब्द 'गरदा' का अभिप्राय समूल नष्ट कर देने से है यानी ठोस को चूर्ण बना देना, अस्तित्व मिटा देना. संस्कृत के शब्द 'गर्व' का समानार्थी 'गरब' भी यहां उसी अर्थों में प्रचलन में है. ताप व उष्णता के लिए हिन्दी में प्रयुक्त 'गरमी' का भी यहां इसी आशय से प्रयोग होता है. 

उपरोक्त मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द 'गरहन' संस्कृत के ग्रहणम व हिन्दी के ग्रहण शब्द से बना है. इसका अभिप्राय चंद्रमा और सूर्य को लगने वाले ग्रहण से है, सूर्य के सामने पृथ्वी और चंद्रमा के आ जाने के कारण प्रकाश में अवरोध की स्थिति ग्रहण है. इस संक्रमण की स्थिति को हिन्दी के 'ग्रसना' से जोड़ कर छत्तीसगढ़ी में 'गरसना' का प्रयोग होता है. संस्कृत शब्द 'ग्रह' के अपभ्रंश में 'गरह' और इसी से 'गरहा' व 'गिरहा' बना है. ग्रहण की स्थिति को ध्यान में रखते हुए ग्रहों के कारण उत्पन्न संकट के लिए बाधा, विपत्ति, संकट को 'गिरहा' कहा गया. बोलचाल में 'गरहन धरे कस लागथे' का प्रयोग इसी भाव से किया जाता है. 

रूढ़ि मान्यता के अनुसार ग्रहण काल में कुछ विशेष कार्य वर्जित माने गए, इस मुहावरे को ध्यान में रखें तो वर्जित करने के बावजूद उसी काल में मैथुन, गर्भिणी स्त्री का घर से बाहर निकला 'गरहन तीरने' का कारण है. रूढ़ि को माने तो इसके कारण जब उस स्त्री का बच्चा पैदा होता है वह अपंग पैदा होता है, उसे पोलियो हो जाता है.

7 comments:

  1. Ati utkrisht karya kar rahe hain Tiwari ji, bahut bahut shubhkamnain !

    ReplyDelete
  2. कभी-कभार पाणिग्रहण का तद्भव बना कर उसमें हास्‍य का पुट लाया जाता है, पानी-गरहन.

    ReplyDelete
  3. छत्तीसगढ़ी में गर का सीधा अर्थ गर्दन ही होता है . और हन को समझा जा सकता है हनना अर्थात मारने से जिससे कष्ट दाई पीड़ा हो किन्तु आवाज न हो। मुठिका एक महाकपि हनि , रुधिर बमत धरनी ढनमनी ..[ रामचरित मानस ]

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. सुघ्‍घर जानकारी मिलिस जी, आप मन ला साधूवाद

    ReplyDelete
  6. बहुत बेहतरीन ढंग से;

    'गर' 'गरह' 'गिरह' गरज समझाए।

    अपन बोली के मान बढ़ाये ।।

    तोर प्रयास के नइ ए सानी।

    रहै चलत अत्केच हम जानी।।

    बहुत बढ़िया ......



    ReplyDelete
  7. छत्तीसगडही के बाढय मान एही म हे हमरो कल्यान
    कब होही हमला एकर भान सद्बुध्दि दे-दे भगवान ।
    प्रशंसनीय पोस्ट ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts