ब्लॉग छत्तीसगढ़

27 January, 2013

गोहार परना एवं गुहरी गदबद होना

छत्तीसगढ़ी मुहावरा गोहार परना का भावार्थ खूब विलाप करना है. चलिए आज इस मुहावरे में प्रयुक्त शब्द 'गोहार' का आशय देखते हैं. शब्दशास्त्री इसे संस्कृत शब्द गो एवं हरण वाले हार से निर्मित बताते हैं जिसका अर्थ सहायता के लिए किये जाने वाली पुकार है. 'गोहार' से बने शब्द 'गोहरईया' का आशय याचना या निवेदन करने वाला है एवं याचना या निवेदन करने के भाव को 'गोहराना' कहा जाता है. 'गोहार पारना' का आशय बात को फैलाना व सहायता के लिए पुकारना भी है. गोड़ी में भी 'गोहार' का आशय हल्ला है, नजदीकी शब्द 'गोहेनी' का आशय छलकपट है.

इससे नजदीक के शब्दों में गायों के रहने के स्थान को 'गोहड़ी' कहते हैं, पशुओं के समूह को 'गोहड़ी' ग्वाला, अहीर, ढ़ोर चराने वाले को 'गहिरा', गहरा को 'गहिर' आदि कहते हैं.

छत्तीसगढ़ी मुहावरा गुहरी गदबद होना का भावार्थ सत्यानाश होना या सबकुछ नष्ट होना है. इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्दों को समझने का प्रयत्न करते हैं.

संस्कृत शब्द 'गुहय' अर्थात मल, विष्ठा से बना हुआ छत्तीसगढ़ी शब्द 'गुह' है. इसी से बने शब्द 'गुहईन' का आशय मल का र्दुगंध है. एक और संयुक्त शब्द 'गुह गॉंगर' का आशय मैला कुचैला है. यानी गुह का प्रयोग नष्ट होने के भाव के लिए भी होता है इसी आशय से 'गुहरी' का प्रयोग इस मुहावरे में हुआ है. 

खराब करने, सामान को इधर उधर करने, उलटने पलटने आदि को छत्तीसगढ़ी में 'गदबद' कहा जाता है. समानार्थी शब्दों में मौज मस्ती के साथ मजा लेते हुए सामान को इधर उधर करने को भी 'गदफद' करना कहा जाता है. सामान के साथ ही विचारों को उलटने पलटने की क्रिया को 'गदबदाना' कहते हैं. 

समीप के शब्दों में अधपके फलों को 'गदरहा', गरिष्ठ को 'गादिल', अलाल को 'गबदा' आदि कहा जाता है. 



साथियों पिछले कई दिनों से इंटरनेट कनेक्शन बाधित हो रहा है इस कारण से छत्तीसगढ़ी शब्दों की यह श्रृंखला अंतरालों के साथ प्रस्तुत होगी. 


3 comments:

  1. संजीव भाई साहब आप लाजवाब हैं बहुत ही सुन्दर विश्लेषण

    ReplyDelete
  2. गोहार या गुहार का आशय फरियाद के भी निकट होता है.

    ReplyDelete
  3. बहुत बेहतरीन ढंग से;

    'गर' 'गरह' 'गिरह' गरज समझाए।

    अपन बोली के मान बढ़ाये ।।

    तोर प्रयास के नइ ए सानी।

    रहै चलत अत्केच हम जानी।।

    बहुत बढ़िया ......

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts