ब्लॉग छत्तीसगढ़

12 January, 2013

मही मांगें जाना अउ ठेकवा लुकाना

छत्तीसगढ़ी के इस मुहावरे का भावार्थ है मांगना भी और शरमाना भी या कहें लजाते हुए उपकृत होने की इच्छा रखना.

दो व्यक्तियों के सिर टकराने की क्रिया के लिए हिन्दी में 'ठेसना' शब्द का प्रयोग होता है. इसी से छत्तीसगढ़ी 'ठेकवा' व 'ठेकी' बना है. ठेकवा से संबंधित छत्तीसगढ़ी का एक और मुहावरा 'ठेकवा फोरना' है जिसका भावार्थ दो व्यक्तियों का सिर आपस में टकराना है. इसके नजदीक के शब्दों में पैसे संचित करने वाले मिट्टी के पात्र गुल्लक को 'ठेकवा', सर मुडाए हुए पुरूष को 'ठेकला' व स्त्री को 'ठेकली' कहा जाता है. कार्य की पद्धति ठेका से बने छत्तीसगढ़ी 'ठेकहा' का आशय ठेके से दिया हुआ से है.

संस्कृत शब्द 'लुक्' व 'लोक' जिसका अर्थ चमकना, आग का छोटा टुकड़ा, चिनगारी, सिगरेट बीड़ी आदि से गिरने वाली जलती हुई राख है. इसके समानार्थी छत्तीसगढ़ी शब्द 'लूक' का भी इन्हीं अर्थों में प्रयोग होता है. इस 'लूक' या 'लुक' के अपभ्रंश से छत्तीसगढ़ी में कोई शब्द निर्माण का पता नहीं चलता. इसमें प्रयुक्त लुक के नजदीक के अन्य शब्दों में 'लुकलुकईया : जल्दबाज, उतावला, अधिक उत्साहित या उत्सुक', 'लुकलुकहा : जल्दबाज, उतावला, अधिक उत्साहित या उत्सुक', 'लुकलुकाना : जल्दबाजी, उतावलापन, अधिक उत्साहित या उत्सुक होने की क्रिया या भाव', जल्दबाजी से संबंधित ये सभी शब्द 'लक' से बने प्रतीत होते हैं जिसका स्पष्ट प्रयोग 'लकर धकर' के रूप में प्रचलन में है. एक अन्य शब्द 'लुकी' भी प्रचलित है जो चिढ़ चलाने के भाव या क्रिया के लिए प्रयोग होता है यथा 'लुकी लगा दीस', 'लुकी लगइया' आदि.

उपरोक्त 'लुक' व 'लक' के अतिरिक्त छिपाने की क्रिया या भाव के लिए छत्तीसगढ़ी शब्द 'लुकाना' प्रचलन में है. छिपने के लुका छिपी के खेल को छत्तीसगढ़ी में 'लुकउला' कहा जाता है. हिन्दी में भी लुकने में प्रवृत्त करना या छिपाना के लिए लुकना या लुकाना का प्रयोग होता है.

हिन्दी में विश्व या संसार का समानार्थी शब्द 'मही' का छत्तीसगढ़ी में 'मैं' या 'मैं ही' के रूप में प्रयोग होता है. इसका एक और आशय प्रयोग में है वह है, दही से मक्खन निकालने के बाद निकले छाछ या मठा को भी छत्तीसगढ़ी में 'मही' कहा जाता है.


पहले के समय में छत्तीसगढ़ के गाँवों में निवासरत किसान गो धन से परिपूर्ण होते थे, उनके घरो में दूध, दही, घी का भंडार हमेशा भरा रहता था. परिपूर्णता के कारण इनके उपउत्पाद के रूप में निकले मठा को बाटने की परम्परा रही है. इसी 'मही' को मांगने के संबंध में यह मुहावरा बना है.
ठेकुआ या खमौनी एक बिहारी व्यंजन है.


4 comments:

  1. बहुत सुन्दर विवेचना . लुकलुकिया या लुकलुकिहा का अर्थ आग लगाने वाला भी होता है .जैसे बन्गैहाँ याने वन के गाव में रहने वाला ..

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा हे ...चलन देवौ संजीव भाई अइसने .....वइसे लुकी लुकी लगाना नई सुने हौं मै

    लुती लगाना कहैं हमर घर तेखर मतलब उकसाना होते शायद ...

    ReplyDelete
  3. कहाँ लुकाये रहेव भइया जी, बढ़िया सीरिज चले हे, बधाई.........

    ReplyDelete
  4. वैसे मही मांगने में मांगने जैसा और देने में देने जैसा भाव कम ही होता था, यह अत्‍यंत सहज व्‍यवहार होता था.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts