ब्लॉग छत्तीसगढ़

11 January, 2013

थोथना ओरमाना

इस छत्तीसगढ़ी मुहावरे का भावार्थ है दुख्री होना, नाराज होना. मुहावरे की प्रयोग की दृष्टि से इस पर मेरा अनुमान है कि इसका आशय स्वयं की गलती पर दुखी होना या नाराज होन है.

आईये अब इस मुहावरे में प्रयुक्त छत्तीसगढ़ी शब्द 'थोथना' को समझने का प्रयास करें. 'थोथना' हिन्दी के 'थूथन' से बना है जिसका आशय लम्बा निकला हुआ मुह है. इसी मुहावरे के समानार्थी मुहावरा 'थोथना उतारना' भी छत्तीसगढ़ में प्रचलित है, जिसका भावार्थ उदास होना है.

'थोथना' के समीप के छत्तीसगढ़ी शब्दों में 'थोथनहा : गुस्से में मुह उतार कर बैठने वाला', 'थोथनहिन : गुस्से में मुह उतार कर बैठने वाली' आदि हैं.

इस भाव से परे इसके नजदीक के शब्दों को भी देखें, चिचोड़-चिचोड़ कर खाने की क्रिया या भाव को छत्तीसगढ़ी में 'थोथलई' कहा जाता है. शेर या हिंसक पशु के द्वारा मृत पशु के मांस खाने को 'थोथलई' कहा जाता हैं. चिचोड़-चिचोड़ कर खाने वाले को 'थोथलईया' कहा जाता है. बोलते हुए या कोई कार्य करते हुए अटक जाने के भाव को 'थोथकना' कहा जाता है. जो कुछ काम कर नहीं सकता यानी अकर्मण्य को छत्तीसगढ़ी में 'थोथवा' या 'थोथो' कहा जाता है. ध्यान रखें कि साधनहीन के लिए भी 'थोथवा' का प्रयोग होता है जहाँ अकर्मण्यता के स्थान पर विवशता झलकती है. 'थोथवा' का प्रयोग काटने वाले औजारों के लिए तब किया जाता है जब वह धार रहित हो जावे.

'ओरवाती' के संबंध में चर्चा करते हुए हमने पहले 'ओर' के संबंध में बताया था. इस मुहावरे में प्रयुक्त 'ओरमाना' इसी के करीब का सर्कमक क्रिया शब्द है जिसका आशय लटकाने या झुकाने से है.

1 comment:

  1. बहुत ही गूढ़ बातें सीखने को मिल रही हैं, उपयोगी श्रृंखला है, नान-स्टॉप चलने दीजिए........

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts