ब्लॉग छत्तीसगढ़

31 August, 2016

मोबाईल-मोबाईल

कल शाम बिलासपुर हाई कोर्ट से वापस दुर्ग आने के लिए स्टेशन पंहुचा। भगत की कोठी आने वाली थी, टिकट लिया, रात होने के कारण स्लीपर नहीं कट पाया, गाड़ी प्लेटफार्म नं. 3 में आ गई। स्टेशन में दाहिने तरफ की सीढ़ी रिपेयरिंग के लिए बंद है सो बाएं तरफ की सीढ़ी और एस्केलेटर से प्लेटफार्म आते तक गाड़ी छूट गई। अगले प्लेटफार्म पर शिवनाथ देरी हो जाने के बाद, नहा-धो के 15 मिनट में छूटने वाली थी। मैं उसमे बैठ गया, बेसमय चलने के कारण उसमे सवारी बहुत कम थे।
गाड़ी छूटने के पहले टीटी दल आया, मैंने टिकट उन्हें दिखाया और स्लीपर काट देने के लिए बोला। टीटी ने टिकट को देर तक देखा तब ध्यान आया कि मेरी टिकट तो मेल-एक्सप्रेस की है और यह सुपर फ़ास्ट है। टीटी ने अंतर का टिकट और जुर्माना लिया, स्लीपर के लिए कोच एस 6-7 में जाने के लिए बोला जिसमें स्लीपर चार्ज नहीं लगता।
एस 6 में कुल जमा 5 यात्री थे, खिड़की के तरफ वाले बर्थ पर एक लड़की बैठी थी और बाजू वाले बर्थ पर एक महिला बैठी थी। दो लड़के अलग-अलग बर्थ पर बैठे थे। मैं आगे बढ़ कर कोच के बीच वाले किसी बर्थ पर जाकर बैठ गया।
गाड़ी चली, अचानक आवाज आई 'चोर! चोर! जंजीर खींचो! चोर!' लड़की बदहवास चिल्ला रही थी। जंजीर खीचने पर भी गाड़ी रुकी नहीं, तब तक एक लड़का दूसरे कोच से आ गया और हम चारो उस लड़की के पास पहुँच कर कारण पूछने लगे।
सिसकियों के बीच लड़की ने बताया कि ट्रेन जब चलने लगी तो वह अपने पर्स से मोबाईल निकाली, अपने पिता को फोन लगाने को थी वैसे ही बाजु के बर्थ पर बैठे लड़के ने मोबाईल छीना और ट्रेन से कूद गया।
अपने नए मोबाईल, उसमे संग्रहित चित्र और ओपन आईडी की उसे चिंता थी। हम सबने उसको ढांढस बंधाया, बाद में स्क्रीन लॉक होने की बात पर वह कुछ नार्मल हुई। उसके छीन लिए गए मोबाईल नंबर पर मैंने रिंग किया तो उधर से किसी ने फोन उठाया, मैंने फोन रेलवे थाने में जमा करने कहा तो उसने हाँ कहा। मतलब छीनी गई मोबाईल फोन आन था, हम लोगों ने 182 में पुलिस को यह बात बताई। लड़की लगातार विलाप करते हुए रो रही थी, उसके हाँथ पैर अकड़ रहे थे। हमने उसकी माँ से बात कराई, उसकी माँ ने उसे भाटापारा तक सुरक्षित छोड़ने को कहा। बातें करते-करते भाटापारा आ गया जहाँ उसे लेने उसके पापा, बड़े पापा और भाई आ गए थे। गाड़ी चलते ही रेलवे पुलिस भी आ गई जिन्हें हमने उनके पास भेज दिया।
तो क्या हुआ, यह तो आये दिन होते रहता है इसे हमें पढ़वा कर, लिख कर हमारा और अपना समय क्यूँ ख़राब किया?
वो इसलिए कि, जब लड़की बदहवास विलाप कर रही थी तो उसे मैंने समझाते हुए कहा कि बेटा मोबाईल ही गया, शुक्र करो कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ, वो आपका बैग, पर्स छीन सकता था, आपको शारीरिक क्षति पंहुचा सकता था जिससे तुम बच गई। तो उसने रोते हुए भोलेपन से कहा जो भी होता, मेरा मोबाईल तो बच जाता न।
.. यानि, मोबाईल के लिए इस कदर मोह?
आजकल के बच्चों के मोबाईल प्रेम का यह प्रत्यक्ष उदाहरण है।
... और यह भी कि, 182 में फोन करने पर अगले स्टेशन पर सहायता पहुँचती है।
©तमंचा रायपुरी के बक-बक

4 comments:

  1. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति 31 अगस्त का इतिहास और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    ReplyDelete
  2. मेल से प्राप्‍त Aadesh Thakur जी की टिप्‍पणी -
    आपकी इस ताजा रपट से शिक्षा यह मिलती है कि ट्रेन में सावधान रहें, खासकर जब वह चलने को होती है। मोबाइल मोह का असल कारण उसमें सेव किए गए डेटा और सेल्फीज़ हैं। बड़ी मुश्किल हो जाती है उनके गुम होने से... पुलिस तो पुलिस ही है चाहे वह लोकल हो या जीआरपी या कोई और...
    धन्यवाद आपको सूचना प्रसारण के लिए।

    ReplyDelete
  3. मोबाईल प्रेम नहीं यह तो मोबाइल फोबिया है ..
    प्रेरक प्रस्तुति

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

31 August, 2016

मोबाईल-मोबाईल

कल शाम बिलासपुर हाई कोर्ट से वापस दुर्ग आने के लिए स्टेशन पंहुचा। भगत की कोठी आने वाली थी, टिकट लिया, रात होने के कारण स्लीपर नहीं कट पाया, गाड़ी प्लेटफार्म नं. 3 में आ गई। स्टेशन में दाहिने तरफ की सीढ़ी रिपेयरिंग के लिए बंद है सो बाएं तरफ की सीढ़ी और एस्केलेटर से प्लेटफार्म आते तक गाड़ी छूट गई। अगले प्लेटफार्म पर शिवनाथ देरी हो जाने के बाद, नहा-धो के 15 मिनट में छूटने वाली थी। मैं उसमे बैठ गया, बेसमय चलने के कारण उसमे सवारी बहुत कम थे।
गाड़ी छूटने के पहले टीटी दल आया, मैंने टिकट उन्हें दिखाया और स्लीपर काट देने के लिए बोला। टीटी ने टिकट को देर तक देखा तब ध्यान आया कि मेरी टिकट तो मेल-एक्सप्रेस की है और यह सुपर फ़ास्ट है। टीटी ने अंतर का टिकट और जुर्माना लिया, स्लीपर के लिए कोच एस 6-7 में जाने के लिए बोला जिसमें स्लीपर चार्ज नहीं लगता।
एस 6 में कुल जमा 5 यात्री थे, खिड़की के तरफ वाले बर्थ पर एक लड़की बैठी थी और बाजू वाले बर्थ पर एक महिला बैठी थी। दो लड़के अलग-अलग बर्थ पर बैठे थे। मैं आगे बढ़ कर कोच के बीच वाले किसी बर्थ पर जाकर बैठ गया।
गाड़ी चली, अचानक आवाज आई 'चोर! चोर! जंजीर खींचो! चोर!' लड़की बदहवास चिल्ला रही थी। जंजीर खीचने पर भी गाड़ी रुकी नहीं, तब तक एक लड़का दूसरे कोच से आ गया और हम चारो उस लड़की के पास पहुँच कर कारण पूछने लगे।
सिसकियों के बीच लड़की ने बताया कि ट्रेन जब चलने लगी तो वह अपने पर्स से मोबाईल निकाली, अपने पिता को फोन लगाने को थी वैसे ही बाजु के बर्थ पर बैठे लड़के ने मोबाईल छीना और ट्रेन से कूद गया।
अपने नए मोबाईल, उसमे संग्रहित चित्र और ओपन आईडी की उसे चिंता थी। हम सबने उसको ढांढस बंधाया, बाद में स्क्रीन लॉक होने की बात पर वह कुछ नार्मल हुई। उसके छीन लिए गए मोबाईल नंबर पर मैंने रिंग किया तो उधर से किसी ने फोन उठाया, मैंने फोन रेलवे थाने में जमा करने कहा तो उसने हाँ कहा। मतलब छीनी गई मोबाईल फोन आन था, हम लोगों ने 182 में पुलिस को यह बात बताई। लड़की लगातार विलाप करते हुए रो रही थी, उसके हाँथ पैर अकड़ रहे थे। हमने उसकी माँ से बात कराई, उसकी माँ ने उसे भाटापारा तक सुरक्षित छोड़ने को कहा। बातें करते-करते भाटापारा आ गया जहाँ उसे लेने उसके पापा, बड़े पापा और भाई आ गए थे। गाड़ी चलते ही रेलवे पुलिस भी आ गई जिन्हें हमने उनके पास भेज दिया।
तो क्या हुआ, यह तो आये दिन होते रहता है इसे हमें पढ़वा कर, लिख कर हमारा और अपना समय क्यूँ ख़राब किया?
वो इसलिए कि, जब लड़की बदहवास विलाप कर रही थी तो उसे मैंने समझाते हुए कहा कि बेटा मोबाईल ही गया, शुक्र करो कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ, वो आपका बैग, पर्स छीन सकता था, आपको शारीरिक क्षति पंहुचा सकता था जिससे तुम बच गई। तो उसने रोते हुए भोलेपन से कहा जो भी होता, मेरा मोबाईल तो बच जाता न।
.. यानि, मोबाईल के लिए इस कदर मोह?
आजकल के बच्चों के मोबाईल प्रेम का यह प्रत्यक्ष उदाहरण है।
... और यह भी कि, 182 में फोन करने पर अगले स्टेशन पर सहायता पहुँचती है।
©तमंचा रायपुरी के बक-बक

Disqus Comments