ब्लॉग छत्तीसगढ़

17 January, 2018

सोलह स्‍टेप में 'बघवा' का आनलाईन आर्डर

भाई केवल कृष्‍ण के लोकप्रिय उपन्‍यास 'बघवा' के विमोचन के दिन से ही पाठकों को उसकी प्रतीक्षा थी। जिनकी पहुंच दिल्‍ली तक थी वे, दिल्‍ली पुस्‍तक मेला जाकर 'बघवा' ले आए और दूसरे पाठकों को चिढ़ाते हुए फेसबुक में फोटू भी चेप दिया। लोगों की उत्‍सुकता 'बघवा' के आनलाईन बिक्री के समाचार से कुछ कम हुई। यश पब्लिकेशन में 'बघवा' के खरीददारी वाले लिंक पर लोगों नें इतना चटका लगाया कि यश की वेबसाईट क्रैश हो गई। इस जद्दोजहद में कुछ लोगों नें 'बघवा' का आनलाईन आर्डर किया किन्‍तु अधिकतम लोगों को इसकी प्रक्रिया मालूम नहीं होने से उनका आर्डर कम्‍प्‍लीट नहीं हो पाया। छोटे दाउ के फटफटी जइसे फर्राटा भागत फटफटी लेटा में रबक गया।
लोक नाट्य राजा फोकलवा के मुख्‍य पात्र और फेसबुक में अद्भुत पोस्‍ट रचईया भाई हेमंत वैष्‍णव का फोन आया, भईया कुछु मदद करतेव। मैंनें कहा कि संझा एक अद्धी एटीएम कारड सुवाईप करके बिसाउंगा फेर कारड में पईसा बांचा होगा तो 'बघवा' मंगाउंगा। पईसा बांच गया तो आर्डर करने बैठा। मोबाईल में मुझे भी कुछ परेशानी हुई पर आर्डर करके ही दम लिया। आईये आप लोगों को बताता हूं कि मैंनें मोबाईल के प्रयोग से कैसे मंगाया 'बघवा'-
1. इस लिंक को क्लिक करके 'बघवा' तक पहुंचा। नीचे स्‍क्रोल किया।

2. यहां नीले बटन के बीच में 'एड टू कार्ट' लिखा था उसे क्लिक किया।

3. फिर उपर स्‍क्रोल किया, पर्स में 1 लिखा दिखा, उसे क्लिक किया।

4. पर्स को क्लिक करने से एक पापप खुला, वहां 'चेकआउट' बटन को क्लिक किया।

5. अब जो पेज ओपन हुआ उसमें दो विकल्‍प थे, एक 'चेक आउट एज गेस्‍ट' और दूसरा 'रजिस्‍टर'। मुझे जल्‍दी थी मैनें रजिस्‍टर करने की लम्‍बी प्रक्रिया के बजाए पहला विकल्‍प 'चेक आउट एज गेस्‍ट' चुना, यानी उसके सामने वाले बिन्‍दु को क्लिक किया फिर 'कन्‍टीन्‍यू' बटन को दबाया।

6. अब जो पेज खुला उसमें नाम, पता आदि का विकल्‍प भरता गया। 

7. आगे राज्‍य के 'एरो की' विकल्‍प पर मैं भटक गया, यहां इंडिया का विकल्‍प ही नहीं मिला। राज्‍य के विकल्‍प को छोड़कर नीचे 'कंट्री' विकल्‍प के 'एरो की' को क्लिक किया तब यह पापप खुला जिसमें 'इंडिया' का विकल्‍प मिला। फिर वापस जाकर, छत्‍तीसगढ़ और पिनकोड भरा।

8. आगे 'कन्‍टीन्‍यू' बटन को क्लिक किया।

9. शिपिंग एड्रेस चेक किया, उपर स्‍क्रोल किया।

10. उपर 'कन्‍टीन्‍यू' बटन को क्लिक किया।

11. अगले पेज में 'प्‍लेस आर्डर' को क्लिक किया। अगले पेज में 'पेयू' विकल्‍प के आगे के बिन्‍दू को क्लिक किया क्‍योंकि मुझे एटीएम कार्ड के द्वारा भुगतान करना था।

12. मेरा एटीएम कार्ड यूपीआई लिंक्‍ड है इसलिए कार्ड का नम्‍बर नहीं भरना पड़ा, सिर्फ एटीएम का 'सीवीवी' भरकर 'पे नाव' को क्लिक किया। यदि आपका कार्ड यूपीआई लिंक्‍ड नहीं है तो आपको कार्ड संबंधी सभी जानकारी भरने के बाद 'पे नाव' का विकल्‍प आयेगा।

13. एक नया पेज खुला और मोबाईल में मैसेज आया। 'ओटीपी' कापी करके 'इंटरव्यू ओटीपी' वाले बाक्‍स में 'ओटीपी' पेस्‍ट किया। 

14. भुगतान की प्रक्रिया शुरू हो गई।

15. उपर बैंक से पैसा कटने का मैसेज आ गया और मैनें 'कंटीन्‍यू शापिंग' बटन को क्लिक किया और बेकस्‍पेस से ब्राउजर से बाहर आ गया

16. मैसेज बाक्‍स में दो संदेश आ चुके थे एक बैंक का पैसा कटने वाला, दूसरा यश से आर्डर कर्न्‍फमेशन का।

अब इंतजार कर रहा हूं, 'बघवा' कब आयेगा मेरे द्वारे।

No comments:

Post a Comment

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है. (टिप्पणियों के प्रकाशित होने में कुछ समय लग सकता है.) -संजीव तिवारी, दुर्ग (छ.ग.)

Popular Posts

17 January, 2018

सोलह स्‍टेप में 'बघवा' का आनलाईन आर्डर

भाई केवल कृष्‍ण के लोकप्रिय उपन्‍यास 'बघवा' के विमोचन के दिन से ही पाठकों को उसकी प्रतीक्षा थी। जिनकी पहुंच दिल्‍ली तक थी वे, दिल्‍ली पुस्‍तक मेला जाकर 'बघवा' ले आए और दूसरे पाठकों को चिढ़ाते हुए फेसबुक में फोटू भी चेप दिया। लोगों की उत्‍सुकता 'बघवा' के आनलाईन बिक्री के समाचार से कुछ कम हुई। यश पब्लिकेशन में 'बघवा' के खरीददारी वाले लिंक पर लोगों नें इतना चटका लगाया कि यश की वेबसाईट क्रैश हो गई। इस जद्दोजहद में कुछ लोगों नें 'बघवा' का आनलाईन आर्डर किया किन्‍तु अधिकतम लोगों को इसकी प्रक्रिया मालूम नहीं होने से उनका आर्डर कम्‍प्‍लीट नहीं हो पाया। छोटे दाउ के फटफटी जइसे फर्राटा भागत फटफटी लेटा में रबक गया।
लोक नाट्य राजा फोकलवा के मुख्‍य पात्र और फेसबुक में अद्भुत पोस्‍ट रचईया भाई हेमंत वैष्‍णव का फोन आया, भईया कुछु मदद करतेव। मैंनें कहा कि संझा एक अद्धी एटीएम कारड सुवाईप करके बिसाउंगा फेर कारड में पईसा बांचा होगा तो 'बघवा' मंगाउंगा। पईसा बांच गया तो आर्डर करने बैठा। मोबाईल में मुझे भी कुछ परेशानी हुई पर आर्डर करके ही दम लिया। आईये आप लोगों को बताता हूं कि मैंनें मोबाईल के प्रयोग से कैसे मंगाया 'बघवा'-
1. इस लिंक को क्लिक करके 'बघवा' तक पहुंचा। नीचे स्‍क्रोल किया।

2. यहां नीले बटन के बीच में 'एड टू कार्ट' लिखा था उसे क्लिक किया।

3. फिर उपर स्‍क्रोल किया, पर्स में 1 लिखा दिखा, उसे क्लिक किया।

4. पर्स को क्लिक करने से एक पापप खुला, वहां 'चेकआउट' बटन को क्लिक किया।

5. अब जो पेज ओपन हुआ उसमें दो विकल्‍प थे, एक 'चेक आउट एज गेस्‍ट' और दूसरा 'रजिस्‍टर'। मुझे जल्‍दी थी मैनें रजिस्‍टर करने की लम्‍बी प्रक्रिया के बजाए पहला विकल्‍प 'चेक आउट एज गेस्‍ट' चुना, यानी उसके सामने वाले बिन्‍दु को क्लिक किया फिर 'कन्‍टीन्‍यू' बटन को दबाया।

6. अब जो पेज खुला उसमें नाम, पता आदि का विकल्‍प भरता गया। 

7. आगे राज्‍य के 'एरो की' विकल्‍प पर मैं भटक गया, यहां इंडिया का विकल्‍प ही नहीं मिला। राज्‍य के विकल्‍प को छोड़कर नीचे 'कंट्री' विकल्‍प के 'एरो की' को क्लिक किया तब यह पापप खुला जिसमें 'इंडिया' का विकल्‍प मिला। फिर वापस जाकर, छत्‍तीसगढ़ और पिनकोड भरा।

8. आगे 'कन्‍टीन्‍यू' बटन को क्लिक किया।

9. शिपिंग एड्रेस चेक किया, उपर स्‍क्रोल किया।

10. उपर 'कन्‍टीन्‍यू' बटन को क्लिक किया।

11. अगले पेज में 'प्‍लेस आर्डर' को क्लिक किया। अगले पेज में 'पेयू' विकल्‍प के आगे के बिन्‍दू को क्लिक किया क्‍योंकि मुझे एटीएम कार्ड के द्वारा भुगतान करना था।

12. मेरा एटीएम कार्ड यूपीआई लिंक्‍ड है इसलिए कार्ड का नम्‍बर नहीं भरना पड़ा, सिर्फ एटीएम का 'सीवीवी' भरकर 'पे नाव' को क्लिक किया। यदि आपका कार्ड यूपीआई लिंक्‍ड नहीं है तो आपको कार्ड संबंधी सभी जानकारी भरने के बाद 'पे नाव' का विकल्‍प आयेगा।

13. एक नया पेज खुला और मोबाईल में मैसेज आया। 'ओटीपी' कापी करके 'इंटरव्यू ओटीपी' वाले बाक्‍स में 'ओटीपी' पेस्‍ट किया। 

14. भुगतान की प्रक्रिया शुरू हो गई।

15. उपर बैंक से पैसा कटने का मैसेज आ गया और मैनें 'कंटीन्‍यू शापिंग' बटन को क्लिक किया और बेकस्‍पेस से ब्राउजर से बाहर आ गया

16. मैसेज बाक्‍स में दो संदेश आ चुके थे एक बैंक का पैसा कटने वाला, दूसरा यश से आर्डर कर्न्‍फमेशन का।

अब इंतजार कर रहा हूं, 'बघवा' कब आयेगा मेरे द्वारे।

Disqus Comments